comScore
Dainik Bhaskar Hindi

मीटिंग में शामिल होने पहुंची कांग्रेस विधायक महिला कॉन्स्टेबल से भिड़ीं

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 30th, 2017 08:55 IST

5.2k
0
0

डिजिटल डेस्क, शिमला। कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी आज चुनावों के बाद पहली बार हिमाचल दौरे पर पहुंचे हैं। यहां उन्होंने कांग्रेस के सभी 68 उम्मीदवारों के साथ मीटिंग की। इस मीटिंग में शामिल होने आई कांग्रेस विधायक आशा कुमारी एक महिला कॉन्स्टेबल से भिड़ गईं। बताया जा रहा है कि ये भिड़ंत इतनी बढ़ गई कि दोनों ने एक-दूसरे को थप्पड़ भी जड़ दिए। इस भिड़ंत के पीछे कारण बताया जा रहा है कि महिला कॉन्स्टेबल ने कांग्रेस विधायक को मीटिंग में जाने से रोक दिया था, जिसके बाद आशा कुमारी भड़क गई। 


 

नेता प्रतिपक्ष पर हो सकता है फैसला

ये पहली बार है, जब राहुल गांधी कांग्रेस प्रेसिडेंट बनने के बाद हिमाचल दौरे पर हैं। यहां राहुल राजीव भवन में पार्टी के सभी बड़े लीडर्स के साथ मीटिंग की। इसी मीटिंग में नेता प्रतिपक्ष के नाम पर भी मुहर लग सकती है, ऐसा माना जा रहा है। इसके अलावा इस मीटिंग में हंगामा होने के आसार भी हैं, क्योंकि माना जा रहा है कि पार्टी नेता प्रदेश में मिली हार का ठींकरा वीरभद्र सिंह पर फोड़ सकते हैं। इसके साथ ही राहुल गांधी के दौरे को देखते हुए एसपीजी की टीम गुरुवार को ही शिमला पहुंच चुकी है।

क्या वीरभद्र बनेंगे नेता प्रतिपक्ष?

हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह, नेता प्रतिपक्ष के सबसे मजबूत दावेदार माने जा रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि वीरभद्र सिंह, हिमाचल के 4 बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं। हालांकि, इसके बाद भी वीरभद्र सिंह का नेता प्रतिपक्ष बनना इतना आसान नहीं है। भले ही प्रदेश में कांग्रेस के 21 में से 17 विधायक वीरभद्र सिंह के समर्थन में हैं, लेकिन वीरभद्र विरोधी खेमा किसी और को नेता प्रतिपक्ष बनाने की जुगत में लगा हुआ है। ऐसा माना जा रहा है कि पार्टी के कई विधायक राहुल गांधी के सामने हार का ठींकरा वीरभद्र सिंह के सिर पर फोड़ सकते हैं। हालांकि, आज ही नेता प्रतिपक्ष के नाम का ऐलान हो सकता है, क्योंकि हिमाचल विधानसभा का विंटर सेशन 9 जनवरी से शुरू हो रहा है। वहीं अगर वीरभद्र सिंह के नाम पर सहमति नहीं बनती है, तो उनकी जगह सुजान सिंह पठानिया, आशा कुमारी, राम लाल ठाकुर या ठाकुर सुखविंदर सिंह को नेता प्रतिपक्ष बनाया जा सकता है।

5 बड़े लीडर्स को मिली हार

इस बार के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के 5 सीनियर लीडर्स को हार का सामना करना पड़ा है। ये सभी वीरभद्र सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। इनमें कौल सिंह ठाकुर, जीएस बाली, ठाकुर सिंह भरमौरी, प्रकाश चौधरी और सुधीर शर्मा का नाम शामिल है। माना जा रहा है कि ये सभी पांचों राहुल गांधी से अलग-अलग कर मीटिंग कर सकते हैं। बता दें कि पिछले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को 68 में से 36 सीटें मिली थी और वीरभद्र सिंह मुख्यमंत्री बने थे।

हिमाचल के नतीजे : 

हिमाचल प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों के लिए 9 नवंबर को वोटिंग हुई थी, जबकि इसके रिजल्ट 18 दिसंबर को डिक्लेयर किए गए थे। इस बार के चुनावों में बीजेपी ने यहां की 68 सीटों में से 44 सीटों पर कब्जा किया। हालांकि पार्टी के सीएम कैंडिडेट प्रेम कुमार धूमल खुद अपनी सीट गंवा बैठे। वहीं कांग्रेस के हाथ से एक और राज्य चला गया और उसे सिर्फ 21 सीटें ही मिली। जबकि अन्य के खाते में 3 सीटें गई। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर