comScore

RBI ने किया एक्सपर्ट कमेटी का गठन, बिमल जालन होंगे कमेटी के मुखिया

December 27th, 2018 00:15 IST
RBI ने किया एक्सपर्ट कमेटी का गठन, बिमल जालन होंगे कमेटी के मुखिया

हाईलाइट

  • RBI ने बुधवार को छह-सदस्यीय एक्सपर्ट कमेटी का गठन किया है।
  • पूर्व आरबीआई गवर्नर बिमल जालन इस समिति के मुखिया होंगे।
  • करीब एक महीने पहले इस तरह की कमेटी बनाने का विचार किया गया था।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बुधवार को  छह-सदस्यीय एक्सपर्ट कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी इस बात को तय करेगी की RBI का आरक्षित कोष सीमा ( कैपिटल फ्रेमवर्क) तक होना चाहिए और अंशदान के तौर पर सरकार को RBI के रिजर्व से कितना पैसा दिया जा सकता है। पूर्व आरबीआई गवर्नर बिमल जालन इस समिति के मुखिया होंगे और आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव राकेश मोहन वाइस चेयरमैन। करीब एक महीने पहले इस तरह की कमेटी बनाने का विचार किया गया था जिसके बाद अब ये फैसला लिया गया है।

RBI ने अपने बयान में कहा, बिमल जालन और राकेश मोहन के अलावा इस पैनल में आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग, RBI के डिप्टी गवर्नर एनएस विश्वनाथन, केंद्रीय बोर्ड के सदस्य भरत दोषी और सुधीर मांकड भी होंगे। RBI ने कहा  'जैसा RBI के सेंट्रल बोर्ड ने 19 नवंबर, 2018 को अपनी बैठक में फैसला लिया था, केंद्रीय बैंक के इकनॉमिक कैपिटल फ्रेमवर्क के आकार की समीक्षा के लिए RBI ने भारत सरकार के साथ परामर्श कर एक एक्सपर्ट कमेटी का गठन कर लिया।' एक्सपर्ट कमेटी को अपनी पहली बैठक के 90 दिनों के भीतर रिपोर्ट सौंपना होगा। इस समिति के गठन को लेकर खींचतान की खबरें आ रहीं थी। जानकार मानते हैं कि आरबीआई के गवर्नर पद से उर्जित पटेल के इस्तीफे की एक वजह इस कमेटी के गठन में सरकार के साथ उनके मतभेद भी थे।

पिछले दिनों रिजर्व फंड को लेकर RBI और सरकार के बीच तनातनी बढ़ गई थी। यह विवाद तब शुरु हुआ था जब RBI के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने नसीहत देते हुए कहा था कि अगर सरकार ने RBI के रिजर्व फंड पर नजर डाली तो देश की अर्थव्यवस्था को बाजार के कोप का सामना करना पड़ेगा। बता दें कि RBI के पास 9.59 लाख करोड़ रुपये का पूंजी भंडार है। अगर रिपोर्टों पर विश्वास किया जाए, तो सरकार इसका एक तिहाई हिस्सा लेना चाहती है। हालांकि सरकार इस बात से इनकार करती रही है। 

कमेंट करें
vF4we