comScore
Dainik Bhaskar Hindi

आज ही के दिन शुरू हुआ, आज ही खत्म हुआ सचिन का क्रिकेट करियर

BhaskarHindi.com | Last Modified - November 15th, 2017 17:07 IST

1.3k
0
1

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। क्रिकेट की दुनिया के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर और भारतीय क्रिकेट के इतिहास के लिए 15 नवंबर की तारीख काफी खास है। ये वही दिन है जब मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने क्रिकेट जगत में डेब्यू किया था, इतना ही नहीं सचिन ने संन्यास भी इसी दिन लिया था। 28 साल पहले 1989 को 16 साल के एक लड़के ने कराची के नेशनल स्टेडियम में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था। तब सचिन मुश्ताक मोहम्मद और आकिब जावेद के बाद सबसे कम उम्र में डेब्यू करने वाले तीसरे टेस्ट खिलाड़ी थे। यही वो वक्त था जब क्रिकेट को एक नायाब हीरा मिला था। सचिन ने अपने करियर में कई शानदार मैच खेले और दुनिया मे अपनी एक अलग पहचान बनाई। सचिन के खाते में कई ऐसे मैच हैं जिन्हें हमेशा याद किया जाएगा। सचिन ने कुल 200 टेस्ट मैच खेले। 24 साल के करियर के दौरान सचिन ने टेस्ट क्रिकेट में 53.78 की औसत से 15921 रन बनाए। उस दौरान उन्होंने 51 टेस्ट शतक और 68 अर्धशतक जमाए।

                           

कैसा था सचिन का पहला मैच?

-पहले टेस्ट मैच में सचिन को छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया।

-भारत की कप्तानी के श्रीकांत कर रहे थे। पहली पारी में पाकिस्तान ने 409 रन बनाकर भारत को दबाव में डाल दिया था। एक समय भारतीय टीम 41 के स्कोर पर 4 विकेट गंवा चुकी थी। 

-मनोज प्रभाकर के विकेट गिरने के बाद उदीयमान सचिन की बारी आई।

-सचिन ने 24 गेंदों का सामना किया और दो चौकों की मदद से 15 रन बनाए।

- साथ ही मो. अजहरुद्दीन के साथ 32 रनों की साझेदारी की। 

                     

- पाकिस्तानी तेज गेंदबाज वकार यूनुस ने सचिन को बोल्ड किया था, वो भी अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे थे। 

- भारत ने पहली पारी में 262 रन बनाए। कराची टेस्ट में सचिन और वकार के अलावा शाहिद सईद (पाक) और सलिल अंकोला ने भी डेब्यू किया था। 

-इस मैच के बाद सचिन ने एपने करियर की एक लंबी पारी खेली, लेकिन सईद और अंकोला का ये पहला और आखिरी टेस्ट साबित हुआ।

-पाकिस्तान ने अपनी दूसरी पारी 305/5 के स्कोर पर घोषित कर दी।

-भारत को 453 रनों का टारगेट मिला। 

-भारतीय बल्लेबाजों ने बेहतर प्रदर्शन (303/3) कर मैच ड्रॉ करा लिया।

                         

-सचिन को दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला। 

-अपना 100वां टेस्ट मैच खेल रहे कपिल देव ने उस टेस्ट में 7 विकेट लिए और एक अर्धशतक बनाया। 

-सचिन के पहले टेस्ट मैच में कपिल देव मैन ऑफ द मैच रहे थे।

क्यों संन्यास के लिए चुनी यही तारीख?

                            

-ये पहले से तय नहीं था कि सचिन अपने 15 नवंबर को संन्यास लेंगे। 

-ये केवल एक संयोग ही माना जाएगा कि 2013 में सचिन ने अपने टेस्ट क्रिकेट की आखिरी पारी 15 नवंबर को ही खेली थी।

-वेस्टइंडीज के खिलाफ 14 नवंबर को शुरू हुए मुंबई टेस्ट के दूसरे दिन सचिन 74 रन बनाकर लौटे।

-इसके साथ ही 24 साल के सफर के बाद सचिन ने आराम लिया।
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर