comScore
Dainik Bhaskar Hindi

SBI ने मिनिमम बैलेंस पेनाल्टी घटाई, 25 करोड़ ग्राहकों को होगा फायदा  

BhaskarHindi.com | Last Modified - March 13th, 2018 20:05 IST

5.7k
0
0
SBI ने मिनिमम बैलेंस पेनाल्टी घटाई, 25 करोड़ ग्राहकों को होगा फायदा  

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली ।  स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के ग्राहकों के लिए खुशखबरी है। भारत का सबसे बड़े सरकारी बैंक में से एक SBI ने नए वित्त वर्ष (अप्रैल 1, 2018) से सेविंग अकाउंट्स में मंथली एवरेज बैलेंस (एमएबी) के रखरखाव का शुल्क घटाने का फैसला किया है। इस कदम से बैंक के करीब 25 करोड़ ग्राहकों को फायदा होगा। SBI के मुताबिक, मेट्रो और शहरी केंद्रों में ग्राहकों के लिए एएमबी के रखरखाव के शुल्क अधिकतम 50 रुपए प्रति माह से घटाकर 15 रुपये प्रति माह कर दिया है। इसी तरह अर्ध-शहरी और ग्रामीण केंद्रों में शुल्क 40 रुपए प्रति माह से घटाकर 12 रुपए और 10 रुपए प्रति माह प्लस GST  कर दिया गया है।

पिछले साल अक्टूबर में एसबीआई ने मासिक औसत संतुलन को बड़े पैमाने पर 20-50% तक नहीं बनाए रखने पर सेवा शुल्क घटाया था। इससे पहले, औसत संतुलन बनाए रखने के लिए मेट्रो और शहरी ग्राहकों को 40 से 100 रुपये का शुल्क लिया गया था। ये जुर्माना 30-50 रुपये तक नीचे लाया गया था अर्ध-शहरी और ग्रामीण केंद्रों पर शुल्क को 25-40 रुपये से 20-40 रुपएतक संशोधित किया गया था।

SBI ने अप्रैल 2017 से 6 साल के अंतराल के बाद पुनर्भरण (एएमबी) शुल्क पुनर्स्थापित किया और फिर हितधारकों से प्रतिक्रिया के बाद अक्टूबर में इसे संशोधित किया।

करोड़ों की पेनाल्टी वसूलने पर सरकार की हुई थी आलोचना

वित्‍त मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों से सामने आया था कि अप्रैल से नवंबर 2017 के बीच SBI ने सेविंग्‍स अकाउंट में एवरेज बैलेंस मेंटेन न रख पाने वाले कस्‍टमर्स से जो पेनल्‍टी वसूली, वो 1,771 करोड़ रुपए रही। इसे लेकर बैंक की काफी आलोचना हुई थी। इसके बाद बैंक ने संकेत दे दिए थे कि वो मिनिमम बैलेंस अमाउंट और इसे बरकरार न रख पाने पर लगने वाली पेनल्‍टी को घटाने पर विचार कर रहा है। 

बैंक ने कई नियमों में किया बदलाव 

बैंक नि: शुल्क नियमित बचत बैंक खाते को मूल बचत बैंक खाता (बीएसबीडी अकाउंट) में बदलने का विकल्प भी दिया है। ये ग्राहकों को एएमबी के रखरखाव के अधीन बिना मूल बचत बैंक की सुविधाएं प्राप्त करने में सहायता करता है।

SBI के साथ 41 करोड़ बचत खातों में से, पीएमजेडीवाई / बीएसडीडी और पेंशनभोगी / नाबालिग / सामाजिक सुरक्षा लाभ धारकों के तहत 16 करोड़ खाते पहले ही फीचर से छूट दिए गए हैं। इसके अलावा, 21 वर्ष से कम के खातों धारकों को छूट दी गई थी।

शुल्क में कमी पर बैंक ने कहा कि, 'हमने ग्राहकों के फीडबैक और भावनाओं को ध्यान में रखते हुए इन शुल्क को कम कर दिया है। बैंक ने हमेशा अपने ग्राहकों के हितों को पहले रखने पर ध्यान केंद्रित किया है और ग्राहक उम्मीदों को पूरा करने के लिए यह हमारे कई प्रयासों में से एक है।'

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर