comScore
Dainik Bhaskar Hindi

सेना को मिली बड़ी कामयाबी, 7 पाकिस्तानी सैनिक और 6 आतंकी ढेर

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 06th, 2018 14:29 IST

5.2k
0
0

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। आर्मी डे पर सेना को बड़ी कामयाबी मिली है। जम्मू-कश्मीर में लाइन ऑफ कंट्रोल पर एक बार फिर पाकिस्तान की नापाक हरकत का भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया है। पाकिस्तान ने सीज़फायर का उल्लंघन करते हुए फायरिंग की। भारत ने इसका मुंहतोड़ जवाब देते हुए कोटली सेक्टर में 7 पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया। वहीं 4 सैनिक जख्मी भी हुए हैं। हालांकि पाकिस्तानी सेना का दावा है कि उनके 4 ही जवान मारे गए है। वहीं उरी सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश कर रहे जैश-ए मोहम्मद के 6 आत्मघाती आतंकियों को सेना ने सोमवार सुबह मार गिराया।

ढेर किए 6 आतंकी

जम्मू-कश्मीर  में आतंकियों ने एक बार फिर घुसपैठ की कोशिश की है। सुरक्षा बलों ने घुसपैठ की इस कोशिश को नाकाम करते हुए 6 आतंकियों को ढेर कर दिया। ये आतंकी सेना को चकमा देकर भारतीय सीमा में घुसने की फिराक में थे।  जम्मू कश्मीर के उरी सेक्टर में सुरक्षा बलों ने सोमवार सुबह इन आतंकियों को मारा है। सभी फिदायीन आतंकी जैश-ए-मोहम्मद  संगठन  के बताए जा रहे है। ये सभी आतंकी आत्मघाती हमले की फिराक में थे। आतंकियों के घुसपैठ की सूचना पर जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना और सीएपीएफ ने संयुक्त अभियान चलाया जिसमें ये बड़ी कामयाबी मिली है। जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी एस पी वैद ने 6 आतंकियो के मारे जाने की पुष्टि की है। बता दें कि, शनिवार को फिदायीन हमले की सूचना पर शहर में हाई अलर्ट कर दिया गया था। खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार की चट्ठा निवासी मनदीप सिंह को एक अज्ञात ने फोन कर सुरक्षाबलाें पर हमले की धमकी दी थी, जिसके बाद उन्होंने पीसीआर जम्मू को सूचना दी थी। 

सुरक्षा बलों को बधाई

जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी शेष पॉल वैद्य ने सुबह ट्वीट कर बताया कि जैश-ए-मोहम्मद के ये आतंकवादी देर रात दुलांजा उरी इलाके में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे। जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना और सीएपीएफ की संयुक्त कार्रवाई में सुबह तक चार आतंकवादियों को मार गिराया था। जिसके बाद दो और आतंकियों को मार गिराया गया। वहां अभी भी कुछ आतंकियों के छिपे होने की आंशका है जिनके साथ मुठभेड़ चल रही है। उन्होंने इस बड़ी कामयाबी पर सुरक्षा बलों को बधाई दी।  इस ऑपरेशन में भारतीय सुरक्षा बल को किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है। 

घाटी में तेज हुए आतंकियों के हमले

मालूम हो कि पिछले कुछ समय में घाटी में आतंकियों के हमले तेज हो गए है। हाल ही में आतंकियों ने बारामुला जिले के सोपोर में IED ब्लास्ट किया था। इस ब्लास्ट में 4 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। यह विस्फोटक आतंकियों ने 'छोटा बाजार' और 'बड़ा बाजार' के बीच एक दुकान के पास प्लांट किया था। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी।

CRPF ट्रेनिंग सेंटर पर किया था फिदायीन हमला

वहीं इससे पहले आतंकियों ने पुलवामा में CRPF के ट्रेनिंग सेंटर को अपना निशाना बनाया था। 31 दिसंबर को हुए इस हमले में पांच जवान शहीद हो गए थे। हालांकि घंटों चली मुठभेड़ के बाद तीन आतंकियों को सुरक्षाबलों ने मार गिरया था। इस हमले की भी जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी। इस हमले को फिदायीन आतंकियों ने अंजाम दिया था।

सेना का ऑपरेशन ऑलआउट

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खात्मे के लिए जारी भारतीय सेना के ऑपरेशन ऑलआउट की वजह से घाटी में की बड़े आतंकियों की मौत हो चुकी है। जम्मू-कश्मीर में आतंक के सफाए के लिए शुरू किए गए ऑपरेशन ऑलआउट के तहत साल 2017 के अंत तक 210 से ज्यादा आतंकवादी मारे जा चुके हैं। सेना के ऑपरेशन के दौरान सबसे ज्यादा 49 आतंकी कुपवाड़ा में मारे गए हैं। जबकि 40 हंदवाड़ा और 22 आतंकियों को बांदीपुरा में सेना ढेर कर चुकी है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download