comScore
Dainik Bhaskar Hindi

बस्तर में मारे गए 15 लोग नक्सली नहीं, मासूम गांववाले थे : कांग्रेस नेता

BhaskarHindi.com | Last Modified - August 13th, 2018 00:49 IST

655
0
0
बस्तर में मारे गए 15 लोग नक्सली नहीं, मासूम गांववाले थे : कांग्रेस नेता

News Highlights

  • कांग्रेस नेता ने बस्तर मुठभेड़ को बताया फर्जी।
  • कांग्रेस नेता ने कहा- सुरक्षा बलों ने नक्सली नहीं निर्दोष गांववालों को मारा।
  • सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाई।


डिजिटल डेस्क, रायपुर। छत्तीसगढ़ के नुकलातोंग में छह अगस्त को हुए 15 नक्सलियों के एनकाउंटर को स्थानीय कांग्रेस नेता ने फर्जी बताया है। कांग्रेस नेता कवासी लखमा ने कहा है कि बस्तर में हुई इस मुठभेड़ में मारे गए सभी लोग नक्सली नहीं बल्कि मासूम गांव वाले थे। उन्होंने कहा, 'सरकार ने जो दावे किए हैं वे पूरी तरह से सही नहीं हैं। आंध्रप्रदेश, तेलंगाना और महाराष्ट्र में तो सुरक्षा बलों ने नक्सलियों के बड़े नेताओं को मार गिराया लेकिन बस्तर में जो 6 अगस्त को 15 लोग मारे गए, वे नक्सली नहीं, मासूम गांव वाले थे।'

 


कांग्रेस नेता ने इस एनकाउंटर के लिए केन्द्र और राज्य की बीजेपी सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि बीजेपी हमेशा से यही करती आई है। यह पार्टी आदिवासियों की दुश्मन है। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में सुकमा जिले के नुकलातोंग में सुरक्षाबलों ने 6 अगस्त को एक मुठभेड़ में 15 नक्सलियों को मार गिराया था। पुलिस ने कहा था कि क्षेत्र में बड़ी संख्या में नक्सलियों की उपस्थिति की खुफिया जानकारी मिली थी। इस आधार पर इलाके की घेराबंदी की गई थी। पुलिस ने यह भी बताया था कि नक्सलियों को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा गया था, लेकिन उन्होंने गोलियां चलानी शुरू कर दी, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई की गई।

मुठभेड़ के बाद से ही सुरक्षाबलों की इस कार्रवाई पर सवाल उठ रहे हैं। स्थानीय लोग और विपक्षी दलों के नेता शुरुआत से ही इस मुठभेड़ को फर्जी बता रहे हैं। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी सामने आाया है कि मारे गए 15 लोगों में से 6 बच्चे थे।

बता दें कि इस मामले में गैर सरकारी संगठन सिविल लिबर्टी कमेटी ने हत्याओं की जांच सीबीआई या एसआईटी से करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। आज (सोमवार) इस मामले की सुनवाई सीजेआई दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच करेगी।

 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर