comScore
Dainik Bhaskar Hindi

बाहर लगा था फाइनेंस कंपनी का बोर्ड, अंदर चल रही थी जिस्मफरोशी

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 05th, 2018 00:39 IST

1.2k
0
0
बाहर लगा था फाइनेंस कंपनी का बोर्ड, अंदर चल रही थी जिस्मफरोशी

डिजिटल डेस्क, मुंबई। देहव्यापार पर रोक के बावजूद चोरी छिपे यह खेल चलता ही रहता है। इससे जुड़े आरोपी पुलिस को झांसा देने के लिए नई-नई तरकीबें निकालते रहते हैं। मुंबई पुलिस की समाजसेवा शाखा ने एक ऐसे ही मामले का भंडाफोड़ किया है। जिसमें फाइनांस कंपनी का बोर्ड लगाकर देह व्यापार का अड्डा चलाया जा रहा था। मामले में एक 70 साल के आरोपी को गिरफ्तार किया गया है साथ ही देह व्यापार के लिए मजबूर की गई तीन लड़कियों को रिहा कराया गया है, जिनमें से एक नाबालिग है। गिरफ्तार आरोपी का नाम रमणीक पटेल है।

देह व्यापार का यह खेल मुंबई के वरली इलाके में स्थित महालक्ष्मी को-ऑपरेटिव हाउसिंग सोसायटी में चल रहा था। तीन महीने पहले ही यहां रमणीक ने ऑफिस खोला था और बाहर गजलक्ष्मी फाइनांस का बोर्ड लगा रखा था। अंदर पटेल ने तीन कमरे बना रखे थे जिनमें बेड बने हुए थे। सोसायटी में रहने वाले लोगों को लगता था कि फाइनेंस कंपनी में लोग आर्थिक लेन देने से जुड़े अपने काम करने आते हैं। गुप्त सूचना के बाद समाजसेवा शाखा नकली ग्राहक के जरिए रमणीक से संपर्क किया। शिकायत की पुष्टि होने के बाद छापेमारी की गई। 

वॉट्सअप पर होता था सौदा

रमणीक ने ग्राहकों से संपर्क के लिए दादर इलाके में ऑफिस खोल रखा था। यहां वह वॉट्सअप पर लड़कियों की फोटो भेजकर सौदा करता था इसके बाद ग्राहकों को फाइनांस कंपनी के पते पर भेज देता था। छापेमारी के दौरान उसके पास से पुलिस ने कई लड़कियों की तस्वीरें और मोबाइल नंबर बरामद किए हैं। 

साढ़े छह लाख की चरस के साथ आरोपी गिरफ्तार

मुंबई पुलिस की एंटी नार्कोटिक्स सेल ने एक किलो 300 ग्राम चरस के साथ एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। बरामद चरस की कीमत साढ़े छह लाख रुपए से ज्यादा है। गिरफ्तार आरोपी का नाम लीलामणि चौहान (38) है। गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस इंस्पेक्टर शशांक शेलके ने जाल बिछाकर आरोपी को चुनाभट्टी इलाके से गिरफ्तार किया। अधिकारियों के मुताबिक बरामद चरस मनाली क्रीम नाम से जानी जाती है और इसकी नशेड़ियों में काफी मांग रहती है। 
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें