comScore

शाजापुर : एक बार फिर दलित की शादी में बवाल, दो गुट आपस में भिड़े

May 01st, 2018 14:45 IST

डिजिटल डेस्क, शाजापुर। आए दिन देश के अलग-अलग हिस्सों से दलितों के साथ हिंसा के मामले सामने आते रहते हैं। ताजा मामला सामने आया है मध्यप्रदेश के शाजापुर से जहां के कांसा गांव में दबंगों ने अपनी ताकत का जोर दिखाते हुए एक दलित युवक की बारात को अपने मोहल्ले से निकलने से रोक दिया। जिससे दोनों पक्षों में विवाद गहरा गया। विवाद गहराता देख दबंगों ने दलितों को मारने के लिए तलवारें तक निकाल लीं। इस दौरान दूल्हे सौराष्ट्र को बचाने के लिए घोड़ी वाला भगा ले गया। इस विवाद के बाद पीड़ित परिवार ने थाने में पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई। जिसके बाद पुलिस ने प्राथमिक जांच के बाद शाम को प्रकरण दर्ज कर लिया।

घोड़ी वाला दूल्हे को लेकर भाग निकला

पूरा मामला शुक्रवार की रात का है। दूल्हे सौराष्ट्र की शादी 29 अप्रैल को सम्मेलन में होनी थी। शुक्रवार को गंगा पूजन के बाद रात साढ़े 10 बजे बनोरी निकाली जा रही थी। दूल्हे के घर से डीजे के साथ जुलूस शुरू हुआ और करीब 500 मीटर दूर मुख्य मंदिर के सामने पहुंचा ही था कि दबंग परिवार के 20-25 लोगों ने जुलूस रोक दिया और डीजे गाड़ी पर लाठियों से हमला कर दिया। इससे जुलूस में शामिल दलित समाज के युवक भड़क गए और दोनों पक्षों के बीच विवाद शुरू हो गया। देखते ही देखते विवाद बढ़ने लगा। विवाद को बढ़ता देख घोड़ी वाला दूल्हे को लेकर भाग निकला।

महिलाओं को भी आई चोटें

आपको बता दें कि बारात में कई महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे, जिन्हें इस दौरान चोटें भी आई हैं। वहीं इस पूरी घटना के बाद परिजनों ने दूल्हे को घर भिजवा दिया और खुद रिपोर्ट दर्ज कराने पुलिस स्टेशन पहुंचे। जहां पर पुलिस वालों ने इस मामले में रिपोर्ट दर्ज करने में देरी की। जिससे परिजन आक्रोशित हो गए और थाने में ही हंगामा शुरू कर दिया। जिसके बाद मौके पर पहुंचे कोतवाली प्रभारी एसआई जितेंद्र जादौन ने पीड़ितों की शिकायत दर्ज की। दलित वर्ग के खिलाफ हुई इस घटना की जानकारी मिलते ही अजाक्स परिसंघ के प्रांताध्यक्ष रामप्रसाद परमार ने कलेक्टर और एसपी से मुलाकात की और पीड़ितों की शिकायत पर कार्रवाई की मांग की है। 

कमेंट करें
Ozaeq
कमेंट पढ़े
शैलेन्द्र सिंह राजपुत September 22nd, 2018 19:18 IST

यह अखबार सबसे बड़ा दोगला अखबार है जो सदैव हिंदुओं को तोड़ने के ही काम करता है, इस अखबार के बेवकूफ संपादक को मैं बता दूं कि आपकी औकात जेहादी मानसिकता के अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ लिखने की नहीं है।