comScore
Dainik Bhaskar Hindi

PM बनने से कोई बुद्धिमान नहीं हो जाता - शत्रुघ्न सिन्हा

BhaskarHindi.com | Last Modified - May 11th, 2018 11:51 IST

1.1k
0
0
PM बनने से कोई बुद्धिमान नहीं हो जाता - शत्रुघ्न सिन्हा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कर्नाटक विधानसभा चुनाव प्रचार में पीएम मोदी के भाषणों से बीजेपी के सांसद शत्रुघ्न सिन्हा नाराज नजर आ रहे हैं। अपनी नाराजगी जाहिर करने के लिए शत्रुघ्न ने ट्विटर का सहारा लिया है। ट्विटर पर अपनी भड़ास निकालते हुए शत्रुघ्न ने लिखा, प्रधानमंत्री बनने से "कोई बुद्धिमान नहीं बन जाता।" इतना ही नहीं उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट्स करते हुए प्रचार के दौरान पीएम मोदी की भाषा पर भी सवाल खड़े किए।

पीएम की मर्यादा बरकरार रहनी चाहिए
शत्रुघ्न ने ट्वीट कर लिखा कि कर्नाटक में आज चुनाव प्रचार थम गया है, लेकिन बिहार-यूपी की तरह मुझे यहां पर भी प्रचार के लिए नहीं बुलाया गया था, कारण हम सभी को पता है, लेकिन मैं नम्रतापूर्वक एक पुराने मित्र, शुभचिंतक और पार्टी समर्थक के तौर पर सुझाव देता हूं, हमें सीमा पार नहीं करनी चाहिए। हमें निजी नहीं होना चाहिए। मर्यादा बनाए रखते हुए मुद्दों को रखना चाहिए। माननीय प्रधानमंत्री की मर्यादा और गरिमा बरकरार रहनी चाहिए। शत्रुघ्न ने कहा कि हम कांग्रेस पर PPP तरह के कमेंट क्यों कर रहे हैं, जबकि नतीजा तो 15 मई को आना है। प्रधानमंत्री बनने से कोई बुद्धिमान नहीं बन जाता है। कर्नाटक में जनता को तय करने दीजिए। शत्रुघ्न सिन्हा ने इन सभी ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को भी टैग किया है।

 

 


पहले भी ऐसा कर चुके हैं शत्रुघ्न 
ये कोई पहला मौका नहीं है जब शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी ही पार्टी को घेरा हो। शत्रुघ्न कई बार ऐसा कर चुके हैं।  शत्रुघ्न सिन्हा ने यूपी-बिहार उपचुनाव के परिणामों को लेकर भी इशारों-इशारों में अपनी ही पार्टी और पीएम मोदी पर निशाना साधा था। बिहार और यूपी में मिली बीजेपी की हार के बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्वीट के जरिए पीएम मोदी को समय रहते चेतने के लिए कहा था। शत्रुघ्न सिन्हा ने सचेत करते हुए कहा था कि 'महाशय, उत्तर प्रदेश और बिहार के उपचुनाव परिणाम आपको और हमारे लोगों को अपनी सीट बेल्ट कस के बांधकर रखने के लिए भी कह रहे हैं, आगे का समय काफी कठिन है। आशा और प्रार्थना करते हैं कि हम इस संकट से जल्द ही उभरेंगे, जितनी जल्दी हो सके उतना अच्छा होगा। परिणाम हमारे राजनीतिक भविष्य के बारे में कई बातें कर रहे हैं... हम इसे हल्के में नहीं ले सकते।'

 

 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर