comScore
Dainik Bhaskar Hindi

VIDEO: लोटस के आकार का अद्भुत मंदिर, पढ़ें निर्माण की रोचक कथा

BhaskarHindi.com | Last Modified - August 29th, 2018 16:04 IST

8.4k
0
0
VIDEO: लोटस के आकार का अद्भुत मंदिर, पढ़ें निर्माण की रोचक कथा

डिजिटल डेस्क, अहमदाबाद। दुनिया के अनोखे मंदिरों में से ये भी एक है। यहां लक्ष्मीनारायण के अलावा यहां अनेक देवी-देवताओं के दर्शन होते हैं। गुजरात के प्रसिद्ध मंदिरों की सूची में इसका भी नाम है। यहां मंगला आरती का नजारा बेहद आलौकिक होता है। इस मंदिर की खासियत है कि इस निर्माण एक डाकू द्वारा दान में दी गई भूमि पर बनवाया गया था...

भक्त बना डाकू

वाड़ताल के शहर को वाडल स्वामीनारायण भी कहा जाता है। यहां का मंदिर कमल के आकार में है, आंतरिक मंदिर में नौ गुंबदों के साथ इस मंदिर के लिए भूमि जोबन पागी दान की गई थी। ये श्री स्वामीनारायण भगवान द्वारा भक्त में परिवर्तित एक डाकू था।  

15 माह में निर्माण पूरा

इसी भक्त के आग्रह पर श्रीजी महाराज ने अपने शिष्य ब्रह्मानंद स्वामी को अस्थायी रूप से मूल मंदिर के निर्माण योजना और निगरानी के लिए संतों की एक टीम के साथ काम करने का आदेश दिया। जिसके बाद इस मंदिर का निर्माण 15 महीनों में पूरा हो गया, और लक्ष्मीनारायण देव की प्रतिमाओं को श्री स्वामीनाथन भगवान ने 3 नवंबर 1824 को वैदिक भजन और स्थापना समारोह की भक्ति के बीच स्थापित किया।

देवी-देवताओं की मूर्तियां

मंदिर में लक्ष्मीनारायण देव, धर्मदेव और भक्तिमाता सहित अनेक देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित है। मध्य मंदिर में स्थित देवताओं के अलावा दक्षिणावर्त शंख (दक्षिणी समुद्र शंख) और शालिग्राम (विष्णु के चिह्न) के रूप में स्थापित किए गए थे। भीतर के गुंबद में देवता के दस अवतारों की पत्थरों की मूर्तियां हैं, विष्णु की मूर्तियां, शेषनाग विराजमान हैं।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें