comScore

टूट सकता है SP-BSP गठबंधन, मायावती का अखिलेश पर तंज...पत्नी को भी नहीं जिता पाए

टूट सकता है SP-BSP गठबंधन, मायावती का अखिलेश पर तंज...पत्नी को भी नहीं जिता पाए

हाईलाइट

  • बसपा में ट्रांसफर नहीं हो पाए यादव वोट - मायावती
  • मायावती ने दिल्ली में की लोकसभा चुनाव के नतीजों की समीक्षा
  • 50 प्रतिशत वोट का लक्ष्य लेकर राजनीति करेगी बसपा

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। लोकसभा चुनाव के दौरान हुआ सपा और बसपा का गठबंधन टूटने की कगार पर पहुंचता दिखाई दे रहा है। चुनावी नतीजों की समीक्षा करते हुए बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने बड़ा बयान दिया है। मायावती ने कहा कि चुनाव में गठबंधन करने पर भी आपेक्षित परिणाम हासिल नहीं हुए हैं। मायावती ने दावा किया कि यादव वोट बसपा में ट्रांसफर नहीं हो पाए हैं, इसलिए अब गठबंधन की समीक्षा की जाएगी। 

मायावती ने कहा कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव अपनी पत्नी और भाई को भी चुनाव नहीं जिता पाए। मायावती के इस रुख के बाद सपा-बसपा का गठबंधन टूटता दिखाई दे रहा है। बसपा प्रमुख मायावती ने दिल्ली में सोमवार को हार की समीक्षा की। उन्होंने लोकसभा चुनाव में संतोषजनक सीटें न मिल पाने के बाद अखिल भारतीय स्तर पर कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई थी।  

यूपी में बसपा के नवनिर्वाचित सांसदों और जिलाध्यक्षों की बैठक में मायावती ने कहा कि पार्टी सभी विधानसभा चुनाव में अपने प्रत्याशी खड़े करेगी। उन्होंने कहा कि हमें 50 प्रतिशत वोट का लक्ष्य लेकर राजनीति करनी है। उन्होंने ईवीएम में गड़बड़ी का भी आरोप लगाया है। मायावती के अलावा उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती से नवनिर्वाचित सांसद राम शिरोमणि वर्मा ने भी ईवीएम में गड़बड़ी होने का आरोप लगाया। 

बसपा सांसद राम शिरोमणि वर्मा ने कहा कि हम लोग पहले से ही कहते आए हैं कि चुनाव बैलेट पेपर से होना चाहिए, जिस पर सरकार और चुनाव आयोग दोनों ही ध्यान नहीं दे रहे हैं। वर्मा ने कहा कि हम चाहते हैं कि बैलेट पेपर से चुनाव हो, जो निष्पक्ष होगा। इसके अलावा बहनजी जो भी निर्देश देंगी, उसका पालन किया जाएगा। इससे पहले मायावती ने रविवार को 6 राज्यों के लोकसभा चुनाव प्रभारियों को हटा दिया। उन्होंने 3 राज्यों के प्रदेश अध्यक्षों को भी पद से बेदखल कर दिया।

गठबंधन का फायदा सिर्फ मायावती को मिला: सपा

कमेंट करें
ua8T9