comScore
Dainik Bhaskar Hindi

SpaceX ने लॉन्च किया सबसे पॉवरफुल रॉकेट, भेजी गई स्पोर्ट्स कार

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 06th, 2018 15:39 IST

8.4k
0
0

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। अमेरिका की कंपनी SpaceX ने मंगलवार को दुनिया का सबसे पॉवरफुल रॉकेट लॉन्च कर दिया। कंपनी ने 'फॉल्कन हैवी' नाम के इस रॉकेट को फ्लोरिडा के केनेडी स्पेस सेंटर से लॉन्च किया गया। इसमें खास बात ये है कि इस रॉकेट के साथ एक स्पोर्ट्स कार भी भेजी गई है। ये पहला मौका है, जब स्पेस में कोई कार जा रही है। कंपनी ने दावा किया है कि फॉल्कन हैवी अभी इस्तेमाल हो रहे सबसे पॉवरफुल रॉकेट 'डेल्टा-4 हैवी' से दोगुना वजन ले जा सकता है।

क्या है इसमें खास ? 

SpaceX ने मंगलवार को 'फॉल्कन हैवी' रॉकेट लॉन्च किया और कंपनी का दावा है कि ये दुनिया का सबसे पॉवरफुल रॉकेट है। इस रॉकेट का वजन लगभग 63.8 टन है, जो लगभग 2 स्पेस शटल के बराबर है। इस रॉकेट में 27 मर्लिन इंजन लगे हैं और इसकी लंबाई 230 फुट है। इस रॉकेट की लंबाई 23 मंजिला बिल्डिंग के बराबर मानी जा सकती है। इस रॉकेट को फ्लोरिडा के केनेडी स्पेस सेंटर से लॉन्च किया गया है। ये वही स्पेस सेंटर है, जहां 50 साल पहले 'मून मिशन' की शुरुआत की गई थी।

पहली बार स्पेस में भेजी गई कार

वहीं फॉल्कन हैवी के साथ एक स्पोर्ट्स कार भी भेजी गई है और ये पहली बार है जब किसी कार को स्पेस में भेजा गया है। कुछ दिनों पहले SpaceX के मालिक एलन मस्क ने फॉल्कन हैवी में रखी हुई अपनी कार की फोटो शेयर की थी। इस फोटो के साथ उन्होंने लिखा था कि 'आमतौर पर टेस्टिंग रॉकेट में स्टील के ब्लॉक रखकर भेजे जाते हैं, लेकिन मुझे ये बोरिंग लगा। इसलिए मैंने कुछ अलग करने का सोचा और इस रॉकेट के साथ कार भेजी।' बता दें कि इस रॉकेट में एलन मस्क की कार 'Tesla Roadster' भेजी गई है।

दोबारा इस्तेमाल होने वाली रॉकेट बना चुकी है कंपनी

SpaceX कंपनी इससे पहले दोबारा इस्तेमाल किए जाने वाले रॉकेट की भी टेस्टिंग कर चुकी है और इसमें कामयाब भी रही है। कंपनी का कहना है कि दोबारा इस्तेमाल होने वाले रॉकेट से इसकी लॉन्चिंग पर होने वाले खर्च में काफी कमी आएगी। इसके साथ ही रूसी, जापानी और यूरोपियन स्पेस एजेंसियां भी इस टेक्नोलॉजी पर काम कर रही हैं। बता दें कि स्पेस में किसी सेटेलाइट को भेजने के लिए रॉकेट का इस्तेमाल किया जाता है और किसी भी प्रोग्राम की लागत का बड़ा हिस्सा रॉकेट पर ही खर्च होता है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download