comScore

पानी न मिलने से नहीं पक रहा मध्यान्ह भोजन, भूखे रह जाते हैं छात्र-छात्राएं

January 17th, 2019 12:48 IST
पानी न मिलने से नहीं पक रहा मध्यान्ह भोजन, भूखे रह जाते हैं छात्र-छात्राएं

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा/परासिया। मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले की पंचायत मण्डईमाला स्कूल में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को मध्यान्ह भोजन नहीं मिल रहा है। दरअसल यहां पर लगा बोरबेल पूरी तरह सूख गया और पानी नहीं निकल रहा है। मध्यान्ह भोजन पकाने वाले स्वासहायता समूह ने कुछ दिनों तक तो पास के किसानों से पानी लिया, लेकिन उनका भी बोरबेल सूख जाने के कारण अब पानी नहीं मिल रहा है। पानी न मिलने से मध्यान्ह भोजन नहीं पक पा रहा है, जिसके कारण बच्चे भूखे ही घर जा रहे हैं।

15 दिनों से है समस्या
हसील उमरेठ की पंचायत माण्डईमाल के मिडिल स्कूल में बोर सूखने से मध्यान्ह भोजन नहीं पकाया गया, जिससे स्कूल में अध्ययनरत 98 छात्र-छात्राएं भूखी रह गई। पानी की व्यवस्था नहीं होने तक अब समूह ने भोजन पकाकर देने से हाथ खड़ा कर लिया है। माण्डईमाल में पंद्रह दिन पहले बोरबेल सूखने से समीपस्त किसान के बोर से पानी अबतक मिलता रहा है। बुधवार को किसान का बोर भी सूखने से पानी की समस्या बन गई, जिससे समूह अथवा पंचायत यहां तत्काल पानी उपलब्ध नहीं कर पाई।

अधिकारियों को शिकायत
मण्डईमाल स्कूल में हाई स्कूल और मिडिल स्कूल एक साथ संचालित होते हैं। यहां मिडिल स्कूल में अध्ययनरत 98 छात्र-छात्राओं के लिए स्थानीय ओम शांति स्व सहायता समूह मध्यांह भोजन उपलब्ध करवाता है। बुधवार को मिडिल स्कूल पहुंचे छात्र-छात्राएं को उस समय निराश और परेशान होना पड़ गया, जब पानी की समस्या बताकर स्कूल में मध्यांह भोजन उपलब्ध नहीं करवाया गया। मामले को लेकर पंच अजेश बघेल ने शिकायत की, वहीं प्रभारी प्राचार्य पदेन प्रधान पाठक ने पंचनामा बनाकर उच्चाधिकारियों को स्थिति से अवगत कराया।

जल्द होगा निराकरण
स्व. सहायता समूह अध्यक्ष राधा बड़कड़े और सचिव संध्या पाटिल का कहना है कि पानी नहीं मिलने से भोजन पकाना मुश्किल हुआ। पंचायत से भी टेंकर से पानी मांगा गया था। दूसरे किसान के बोर से पानी मिल जाए, तो समस्या नहीं रहेगी। प्रभारी प्राचार्य संतोष यदुवंशी कहते हैं कि पंचायत को पानी की समस्या से अवगत कराते हुए टेंकर उपलब्ध करवाने डिमांड की गई है। जन शिक्षक वीरेन्द्र शर्मा कहते हैं कि उनके कार्यक्षेत्र के 6 स्कूलों में पानी की समस्या है, जिसके अनुसार डिमांड बनाकर उच्चाधिकारियों को भेजी गई है। वहीं प्रभारी पंचायत सचिव पदेन रोजगार सहायक रामकिशन यदुवंशी का कहना है कि  हैंडपंप में लगा मोटर पम्प खराब है, उसे जल्द ठीक करवाएंगे। पानी की वैकल्पिक व्यवस्था बनाने समीपस्त किसान से उसके बोर का पानी मांगा गया है।

4 पंचायतों के 6 स्कूलों में है जल संकट
स्कूलों के लिए बनाए गए जल स्त्रोत सूखने से मोरडोंगरी संकुल अंतर्गत 4 पंचायतों माण्ड़ईमाल, अपतरा, ताल पिपरिया और तिगाई के 6 स्कूलों में परेशानी उत्पन्न हो गई है। जिसमें मिडिल स्कूल तिगाई और माण्ड़ईमाल, प्रायमरी स्कूल घाघर तलाई, करलाखुर्द, मुजाबर रैय्यत और चिखलाडोमरी शामिल है। यहां पानी की व्यवस्था पंचायत द्वारा टेंकर से पानी पहुंचाकर बना रही है।

Loading...
कमेंट करें
4VyU6
Loading...
loading...