comScore
Dainik Bhaskar Hindi

रेसलर सुशील कुमार और प्रवीण राणा के समर्थकों के बीच जमकर हुई लड़ाई, देखें VIDEO

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 29th, 2017 20:57 IST

4.5k
0
0

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय रेसलर सुशील कुमार ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 के लिए क्वालिफाई कर लिया है। शुक्रवार को सुशील कुमार ने 74 किलोग्राम वर्ग के लिए हुए ट्रायल के फाइनल मैच में जीतेंद्र कुमार को पटखनी दी है। इस जीत के साथ ही सुशील कुमार ने ऑस्ट्रेलिया में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए टिकट कटा लिया है। इस मैच के दौरान बाहर ओलंपिक मेडल विजेता सुशील कुमार और प्रवीण राणा के समर्थकों के बीच जमकर विवाद हुआ और उनके बीच नौबत हाथापाई पर आ गई। समर्थकों के बीच जमकर लात-घूंसे चले। दोनों पहलवानों के समर्थकों के बीच यह हाथापाई नई दिल्ली के केडी जाधव स्टेडियम में हुई। सुशील कुमार ने इस घटना की निंदा की है।




 

बता दें कि सुशील ने जितेंद्र से पहले प्रवीण राणा को हराया था। दोनों पहलवानों के समर्थकों के बीच हाथापाई की नौबत तब आई जब सुशील से हारने के बाद प्रवीण राणा ने आरोप लगाया कि सुशील कुमार के समर्थकों ने रिंग में आने से पहले उनके और बड़े भाई के साथ मारपीट की थी। इतनी बात सुनते ही राणा के समर्थकों में आक्रोश छा गया और वे जमकर विवाद करने लगे। राणा ने यह भी आरोप लगाया कि सुशील के समर्थकों ने उसे जान से मारने की धमकी दी और कहा है कि आगामी प्रो. कुश्ती लीग में खेलने की भूल न करें। इन बयानों के बाद दोनों पहलवानों के समर्थक आपस में भिड़ गए।

मगर इन सबके उलट सुशील कुमार ने दावा किया कि मुकाबले के दौरान राणा ने उनपर हमला किया। सुशील ने कहा है कि राणा ने पहले मुझे पीटा था, लेकिन कोई बात नहीं। यह मुझे अच्छा खेलने से रोकने की उसकी रणनीति होगी। यह खेल का ही हिस्सा है। जो कुछ हुआ था, वह गलत था। मैं इसकी निंदा करता हूं। मुकाबला खत्म होने के बाद हममें एक-दूसरे के लिए सम्मान था।

गौरतलब है कि सुशील और राणा के बीच पुरानी प्रतिद्वंद्विता चली आ रही है। सुशील ने कॉमनवेल्थ गेम्स के फाइनल में राणा को हराया था। इससे पहले सुशील एक और भारतीय पहलवान नरसिंह यादव के साथ विवाद के चलते सुर्खियों में छाए हुए थे। सुशील कुमार पहले 66 किलोग्राम वर्ग में खेलते थे, लेकिन उन्होंने 2016 में हुए रियो ओलंपिक के लिए अपना वजन बढ़ा लिया था और वह 74 किलोग्राम वर्ग में आ गए थे।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर