comScore

टीचर ने मारा ऐसा चांटा, मासूम छात्र की नजर हो गई तिरछी, दिखने लगी डबल इमेज

January 05th, 2018 19:43 IST
टीचर ने मारा ऐसा चांटा, मासूम छात्र की नजर हो गई तिरछी, दिखने लगी डबल इमेज

डिजिटल डेस्क जबलपुर । लिटिल वल्र्ड स्कूल तिलवारा में पांचवीं कक्षा में पढऩे वाले 11 वर्षीय छात्र को टीचर ने पहले चांटा मारा और फिर उसी जगह पर डायरी दे मारी। इससे मासूम छात्र की एक आंख की नजर तिरछी हो गई। इसके बाद उसे दोनों आंखों से डबल इमेज दिखने लगी। छात्र का जबलपुर से लेकर मुंबई तक इलाज कराया गया, लेकिन उसकी हालत में सुधार नहीं आया। इस मामले में तिलवारा पुलिस ने टीचर के खिलाफ धारा 294, 323, 506 और 336 का प्रकरण दर्ज किया है।
ये है मामला - गोदावरी अपार्टमेंट विजय नगर निवासी आशीष पचौरी का 11 वर्षीय पुत्र जनमेजय पचौरी लिटिल वल्र्ड स्कूल तिलवारा में कक्षा पांचवीं का छात्र है। 21 दिसंबर को सुबह 8 बजे स्कूल की असेम्बली में जनमेजय का एक छात्र के साथ में झगड़ा हुआ था। जनमेजय को झगड़ा करते हुए टीचर अमरदीप अरोरा ने देख लिया। असेम्बली के बाद टीचर अमरदीप ने जनमेजय को डायरी लेकर बुलाया। टीचर ने पहले जनमेजय की आंख के बाजू में तमाचा मारा। इसके बाद उसकी जगह पर डायरी से भी मार दिया। आंख के बाजू में चोट लगने से जनमेजय को दिखना बंद हो गया। इसके बाद टीचर ने उसे क्लास में भेज दिया। क्लास में टीचर ने देखा कि जनमेजय अजीब तरह से देख रहा है। टीचर ने उससे पूछा कि क्या हो गया, तब उसने बताया कि उसे दिखाई नहीं दे रहा है।
प्रबंधन ने कहा कि बच्चा चश्मा नहीं लाया है
आशीष पचौरी ने बताया कि सुबह लगभग 11 बजे उसके पास स्कूल प्रबंधन का फोन आया कि आपका बच्चा आज चश्मा लाना भूल गया है। उसने कहा कि मेरे बच्चे को चश्मा नहीं लगता है। स्कूल पहुंचने पर उसे प्रिंसिपल के ऑफिस में बैठाया गया। उसे बच्चे से नहीं मिलवाया गया। टीचर ने उन्हें बताया कि बच्चे को उसने पीठ में मारा था। इससे उसने ज्यादा ध्यान नहीं दिया, वे बच्चे को लेकर घर आ गए। जब उन्होंने घर आकर देखा तो बच्चे की एक आंख की नजर तिरछी हो गई थी। उसे डबल इमेज दिखाई दे रही थी। इसके बाद स्कूल की प्रिंसिपल और तिलवारा थाने में शिकायत की गई। सभी ने उन्हें पहले बच्चे का इलाज कराने की सलाह दी।
पहले शहर फिर मुंबई में कराया इलाज
बच्चे की हालत देखकर उसके माता-पिता घबरा गए। वे सबसे पहले नेत्र विशेषज्ञ के पास लेकर पहुंचे, लेकिन हालत में सुधार नहीं हुआ। इसके बाद शहर के दो न्यूरो सर्जन से इलाज कराया गया, जब बच्चे को कोई फायदा नहीं हुआ तो उसे इलाज के लिए मुंबई ले गए। मुंबई में इलाज कराने के बाद जनमेजय की हालत जस की तस बनी हुई है।
टीचर पर दर्ज कराई एफआईआर
गुरुवार को  मां अर्चना पचौरी और पिता आशीष पचौरी अपने बेटे जनमेजय को लेकर तिलवारा थाने पहुंचे। थाने में टीचर अमरदीप अरोरा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। पुलिस ने टीचर के खिलाफ धारा 294, 323, 506 और 336 का प्रकरण दर्ज किया है।  पी-4

कमेंट करें
iWSAI