comScore

सबकी सुनूंगा, लेकिन अपनी जगह पर नहीं बैठे तो चला जाऊंगा-पालकमंत्री

December 04th, 2018 12:24 IST
सबकी सुनूंगा, लेकिन अपनी जगह पर नहीं बैठे तो चला जाऊंगा-पालकमंत्री

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मंगलवारी जोन की समस्या को लेकर आयोजित जनता दरबार में स्थानीय निवासियों का गुस्सा फूटा तो उन्होंने पालकमंत्री के सामने अपनी जमकर भड़ास निकाली। मूलभूत समस्याओं की शिकायत पर जनता का आक्रोश देखकर पालकमंत्री ने कहा कि जिन्होंने अपनी शिकायत दर्ज करवाई है, वह बोलें। मैं एक-एक कर सबकी समस्याएं नहीं सुन सकता हूं, ऐसे तो रात हो जाएगी। शोर मत करो सबकी सुनूंगा, लेकिन फिर भी नहीं मानोगे तो सभा बंद करके चला जाऊंगा। यह बात पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने मंगलवारी जोन की समस्याओं को लेकर जनता दरबार में  शिकायत कर रहे लोगों से कही।   मंच पर उनके साथ विधायक सुधाकर देशमुख, महापौर नंदा जिचकार, सत्तापक्ष नेता संदीप जोशी, जोन सभापति संगीता गिर्हे, संदीप जाधव, भूषण शिंगणे, सुनील अग्रवाल, अतिरिक्त आयुक्त रवीन्द्र ठाकरे, राम जोशी, सहायक आयुक्त हरीश राऊत, नगरसेवक संजय बुर्रेवार, किशोर जिचकार, महेन्द्र   धनविजय नरेन्द्र वालदे, प्रमिला मंथरानी सहित संबंधित  विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

शिकायतकर्ता-पटौली चर्च के पीछे, गोकुलधाम में पानी की पाइप लाइन नहीं है। अलंकार टाॅकीज के पास 2 जगह पानी का लीकेज है। तभी जनता का गुस्सा फूटा तो सभी अपनी समस्याएं सुनाने लगे। इस पर पालकमंत्री बोले, अधिकारियों को बोलने दो, आपकी समस्या 10 दिन में खत्म हो जाएगी। 

अधिकारी- पाइप लाइन बदलने के लिए मनोरमा जयस्वाल ने शिकायत की है, हमने पानी का सैंपल लिया, वह सही है। इस पर मनोरमा जयस्वाल ने कहा कि शिव मंदिर तक पुरानी लाइन है। लाइन फूटी होने से लोगों को पीलिया हो गया और अब तक 4-6 लोग मर चुके हैं। नल शुरू  करने के बाद आधा घंटा तक गंदा पानी आता है। 6 माह से बोल रहे हैं कि फाइल अटकी है। 

पालकमंत्री-अधिकारी झूठ क्यों बोल रहे हैं, इनकी 2 वेतनवृद्धि रोकना पड़ेगा। वो मांग कर रही हैं तो लाइन बदल दो नहीं तो मैं स्पॉट पर जाऊंगा। 

महापौर-झूठ क्यों बोला, सारी रिकार्डिंग हो रही है। जनता दरबार में शिकायत आई है तो आपने उसे पूरा क्यों नहीं किया। 

पालकमंत्री-आज से एक माह में पाइपलाइन नहीं बदली तो एनएमसी-ओसीडब्ल्यू के अधिकारियों की वेतनवृद्धि रोक दी जाएंगी।

59 ले-आउट में पानी की लाइन नहीं... और फिर हंगामा
जल प्रदाय विभाग की 25 शिकायतों पर विभाग ने बताया कि 14 शिकायतें नई पानी की पाइप लाइन की हैं। 59 ले-आउट में करीब 12 हजार नागरिक रहते हैं। यहां के रहवासी कुएं से पानी भरते हैं और जहां कुएं नहीं है, वहां टैंकर जाते हैं। 
 

Loading...
कमेंट करें
kOewq
Loading...