comScore

दुनिया का एकमात्र ज्वालामुखी, जिसके अंदर जा सकते हैं आप

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 06th, 2017 14:07 IST

डिजिटल डेस्क, रिकिविक। बीते दिनों इंडाेनेशिया के बाली द्वीप पर माउंट अागुंग पर ज्वालामुखी फट गया। इसने बड़े स्तर पर जनजीवन प्रभावित कर दिया। लोग इसके शांत होने की प्रार्थना करने लगे। आप हम सिर्फ कल्पना ही कर सकते हैं ज्वालामुखी के फटने का नजारा कितना भयानक हो सकता है। अंडमान निकोबार द्वीप के बैरन में  इंडिया का एकमात्र एक्टिव ज्वालामुखी है। यहां हम आपको एक ऐसे ज्वालामुखी के बारे में बताने जा रहे हैं  जो 4 हजार सालों से शांत है और यह एक मात्र ऐसा ज्वालामुखी है जिसके मैग्मा चेंबर तक जाकर आप आराम से फोटोग्राफी कर सकते हैं। 

 

4 सौ फीट तक नीचे उतरना होगा

यह है ट्रिनुकागिगुर ज्वालामुखी जो कि आइसलैंड में स्थित है। इसके मैग्मा चेंबर तक जाने के लिए आपको करीब 4 सौ फीट तक नीचे उतरना होगा। इसके नीचे तक जाने के लिए एक मशीन भी लगाई गई है जो लिफ्टनुमा है। आइसलैंड नाॅर्थ अटलांटिक महासागर में सक्रिय ज्वालामुखी बेल्ट पर है। इसे ज्वालामुखियों का घर कहा जाता है। दरअसल, आइसलैंड कई छोटे-छोटे आइलैंड से मिलकर बना है। बताया जाता है कि यहां पर करीब 130 ज्वालामुखी हैं जिनमें अधिकांश सक्रिय हैं।

 

विशेष सुरक्षा प्रबंधों के साथ ही इसके अंदर प्रवेश

एडवेंचर के शौकीन यहां बड़ी संख्या में पहुंच सकते हैं। इसे इनसाइड वोल्केनो नाम भी दिया गया है। इसके अंदर का नजारा आपको रोमांच से भर देगा। यह ज्वालामुखी ब्लफ्जोल कन्ट्री पार्क में स्थित है जो  आइसलैंड की कैपिटल सिटी रिकिविक से 20 किमी के फासले पर है। यहां पहुंचने पर आपको 45 मिनट उस जमीन पर चलना होगा, जो लावा से बनी है और इसी वजह से पथरीली है। विशेष सुरक्षा प्रबंधों के साथ ही इसके अंदर प्रवेश किया जाता है। इसकी खोज करीब 40 साल पहले हुई थी। इसे साल 2012 में पर्यटकों के लिए खोल दिया गया था। तब से यहां दूर-दूर से आने वाले पर्यटक  जाते रहते हैं।

Similar News
दुनिया का एकमात्र ज्वालामुखी, जिसके अंदर जा सकते हैं आप

दुनिया का एकमात्र ज्वालामुखी, जिसके अंदर जा सकते हैं आप

आखिर ये हुआ कैसे ?, अलसुलझे ही रह गए वर्ल्ड के ये रहस्य

आखिर ये हुआ कैसे ?, अलसुलझे ही रह गए वर्ल्ड के ये रहस्य

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l