comScore

विदर्भ में मुख कैंसर का सबसे बड़ा कारण है खर्रा

February 04th, 2019 15:21 IST
विदर्भ में मुख कैंसर का सबसे बड़ा कारण है खर्रा

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  उपराजधानी सहित विदर्भ में मुख कैंसर का सबसे बड़ा कारण खर्रा है।  इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) आंकड़े दे चुकी है कि देश में कैंसर से होने वाली 10 लाख मृत्युओं में 1 लाख सिर्फ महाराष्ट्र में हैं। दूसरी ओर विदर्भ को मुख के कैंसर का कैपिटल कहा जाता है। ऐसे में शहर के चिकित्सकों ने चौंकाने वाले आंकड़े प्रस्तुत किए हैं। पुरुषों में कैंसर का 40 फीसदी सिर्फ मुख का कैंसर देखने को मिलता है। इसमें सबसे बड़ी चौंकाने वाली बात यह है कि यह कैंसर पहले ही 60 और 70 वर्ष के उम्रदराज में दिखने की अपेक्षा अब 25 से 30 साल के युवाओं में देखने को मिल रहा है। प्राथमिक सर्वे में ऐसा सामने आया है कि नागपुर सहित विदर्भ में खर्रा का सेवन इन सबकी प्रमुख वजह है। तंबाकू के साथ खराब और कैमिकल्य युक्त सुपाड़ी व चूना कैंसर का बड़ा कारण बन रही है।

महिलाओं में सर्वाधिक ब्रेस्ट कैंसर

वहीं महिलाओं में कैंसर में 60 फीसदी प्रमाण सिर्फ ब्रेस्ट कैंसर के देखने को मिल रहा है। इसका कारण आज जीवन में आधुनिक और शहरीकरण बढ़ रहा है। देर से होने वाली शादियां भी इसका एक मुख्य कारण है। इस बीमारी से बचने के लिए किसी भी ब्रेस्ट में किसी भी प्रकार की गठान महसूस होने पर तत्काल चिकित्सक का परामर्श लें और मेमोग्राफी सहित अन्य जांच करवाएं।

खर्रा के कारण हुआ था कैंसर

मोमिनपुरा निवासी मरीज जमील अहमद अंसारी ने बताया कि वह बहुत ज्यादा खर्रा खाते थे जिसके बाद उन्हें कैंसर हो गया। मुंबई दिखाने गए तो डॉक्टरों ने कहा ऑपरेशन करना पड़ेगा। वापस लौटकर नागपुर में उपचार लिया, तो 2 माह में उससे राहत मिली। इसके बाद अब पूरी तरह खर्रा छोड़ िदया है। अब मैं ठीक हूं।

ब्लड कैंसर को दी मात

नागपुर निवासी 4 वर्षीय ओजस्वी ढोबले के पिता ने बताया कि उनकी बेटी को जनवरी 2015 में कैंसर सामने आया। उस समय वह 4 साल की थी। उपचार के बाद 2017 में वह ठीक हो गई और अब वह अपने नियमित काम करती है और स्कूल जाती है। एक साल से रुटीन परामर्श के लिए ही डॉक्टर के पास जाते हैं। 

विदर्भ मुख के कैंसर का कैपिटल

मुख के कैंसर के कारण ही विदर्भ को मुख के कैंसर का कैपिटल कहा जाता है। इसका प्रमुख कारण खर्रा है जिसका सेवन न करके नागरिक खुद को स्वस्थ्य रख सकते हैं।- डॉ. सुशील मानधनिया, कैंसर रोग विशेषज्ञ
 

कमेंट करें
IvQem