comScore

 चना, मसूर, सरसों का तीन करोड़ भुगतान अटका, पैसे के लिए भटक रहे किसान 

 चना, मसूर, सरसों का तीन करोड़ भुगतान अटका, पैसे के लिए भटक रहे किसान 

डिजिटल डेस्क, कटनी । समर्थन मूल्य पर खरीदे गए चना, मसूर, सरसों की राशि पाने जिले के किसान एक माह से भटक रहे हैं। अनेक किसानों की लगभग तीन करोड़ रुपए की राशि का भुगतान नहीं हो पाया है। विडम्बना यह है कि जिस विभाग के माध्यम से खरीदी की गई उसका कोई आफिस भी जिला मुख्यालय में नहीं है। लिंक विभाग के अधिकारी भी किसानों को उपज के दाम दिलवाने में स्वयं को असहाय महसूूस कर रहे हैं। इस सीजन में जिले के 2577 किसानों से 4517 टन चना, मसूर, सरसों की खरीदी की गई थी। खरीदी के लिए नाफेड को एजेंसी बनाया गया था। 18 करोड़ रुपए में से 14 करोड़ 83 लाख रुपए का भुगतान कर दिया गया है, शेष तीन करोड़ 17 लाख रुपए का भुगतान एक माह से अटका है। 1929 किसानों से चना, 462 किसानों से सरसों एवं 186 किसानों से मसूर की खरीदी की गई थी।


23 मई बाद हुई खरीदी का नहीं मिला पैसा
लोहरवारा निवासी शोभाराम पटेल, रामप्रमोद पटेल ने बताया कि उन्होंने चना, मसूर का विक्रय समर्थन मूल्य पर किया था। किसानों के अनुसार 23 मई के पूर्व जिन किसानों ने चना, मसूर का विक्रय किया था, उन्हें राशि का भुगतान हो गया है, लेकिन 23 मई बाद चना, मसूर बेचने वाले किसानों को अब तक राशि नहीं मिली। जबकि सात दिन के भीतर राशि का भुगतान करने का नियम है। खरीदी केन्द्र प्रभारी से सम्पर्क करने पर उसके द्वारा भी संतोषजनक जवाब नहीं दिया जाता है।


इनका कहना है
कटनी जिले में चना, मसूर, सरसों की खरीदी के लिए नाफेड को एजेंसी बनाया गया था। 2577 किसानों से 4515 टन की खरीदी की गई थी और 18 करोड़ रुपए में से 14.83 करोड़ रुपए का भुगतान हो चुका है। शेष किसानों को भुगतान के लिए नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा नाफेड को पत्राचार किया गया है।
संजय गीते, जिला प्रबंधक मार्कफेड कटनी
 

कमेंट करें
R26tC