comScore

चंद्रपुर में बाघिन का संदिग्ध शव मिलने के बाद धराए तीन

चंद्रपुर में बाघिन का संदिग्ध शव मिलने के बाद धराए तीन

डिजिटल डेस्क, चंद्रपुर। ताडोबा के कोर क्षेत्र में खातोंडा गेट पर बाघिन के संदिग्ध रुप से मृत मिलने के मामले में 3 आरोपियों को धर दबोचा गया है। वाघिन का शव शिकारी जाल के पास ही पड़ा था। मंगलवार को वनविभाग ने 3 लोगों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया। उन्हें अदालत ने 20 अप्रैल तक फॉरेस्ट कस्टडी में भेजा है। पलसगांव के सुरेश विठ्ठल कन्नाके उर्फ कुमरे, उम्र 29 साल, रमेश बाबुराव मसराम उम्र 41 साल और खुटवंडा के अमोल उध्दव आत्राम, उम्र 23 साल को सलाखों के पीछे भेजा गया है।

ताडोबा के प्रकल्प संचालक एन.आर. प्रवीण ने बताया कि इन आरोपियों को संदेह के आधार पर सोमवार को पुछताछ के लिए हिरासत में लिया गया था। इस दौरान राज खुलते ही उन्हें गिरफ्तार किया गया। उनके खिलाफ संबंधित धारा के तहत मामला दर्ज किया गया। मंगलवार को तीनों आरोपियों को भद्रावती की अदालत में पेश किया गया। इसके बाद भी वनविभाग इस मामले की कडाई से जांच कर रहा है। 

13 अप्रैल को मामला प्रकाश में आया था। उस समय ताडोबा प्रबंधन के साथ समूचे वनविभाग में हड़कंप मच गया था। मामला इतना गंभीर था कि राज्य के वनमंत्री ने उसी दिन देर शाम संज्ञान लेकर जांच और दोषियों को कड़ी सजा के आदेश दिए थे। जिससे सभी सख्ते में आ गए थे। ताडोबा के कोर जोन में जाल में फंस कर बाघिन की मौत होने के मामले ने वन्यजीव प्रेमियों को भी सांसत में डाल दिया था।

कमेंट करें