comScore

खेत में लगा रखा था ट्रैप , फंसकर तेंदुए की मौत

खेत में लगा रखा था ट्रैप , फंसकर तेंदुए की मौत

डिजिटल डेस्क, धारणी (अमरावती)। मेलघाट व्याघ्र प्रकल्प के अंतर्गत धारणी से 100 किलोमीटर स्थित तेल्हारा तहसील के हिवरखेड़ से सटे ग्राम खंडाला के पास एक खेत में वन्य प्राणियों के शिकार के लिए लगाए गए ट्रैप में फंस कर एक तेंदुए की मौत हो गई। जिससे परिसर में शिकारी सक्रिय होने का संदेह वन विभाग को है। बता दें कि दो दिनों पूर्व पुलिस ने वन विभाग की सहायता से 11 घोरपड़ को जीवनदान देकर तस्करी करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार किया  गया था। गुरुवार की सुबह खंडाला से सटे नरनाला अभयारण्य से शिकार की तलाश में आए एक तेंदुए का पैर शिकार के लिए लगाए गए ट्रैप में फंस गया। पैर बुरी तरह फंस जाने से तेंदुए ने अपनी जान बचाने के लिए काफी मशक्कत की। लेकिन करीब दोपहर 12 बजे तेंदुए की तड़प-तड़प कर मौत हो गई। वन विभाग को इस घटना की जानकारी मिलते ही वन विभाग का दल पशु वैद्यकीय अधिकारी को लेकर तुरंत घटनास्थल पहुंचा। तेंदुए के शव को पोस्टमार्टम के लिए रवाना किया गया है। शिकार के लिए ट्रैप लगाने वाले तस्करों की तलाश वन विभाग व्दारा की जा रही है।

वन्यप्राणियों के अंगों की तस्करी

मेलघाट व्याघ्र प्रकल्प के मध्यप्रदेश की सीमा पर वन विभाग व्दारा कई बार कार्रवाई कर वन्य प्राणियों के अवशेषों की तस्करी करने वालों को गिरफ्तार किया जा चुका है। बावजूद  बाघ, तेंदुए के नाखून, दांत, चमड़े की तस्करी करने वाले आज भी सक्रिय नजर आ रहे हैं। शिकार के लिए लगाए गए ट्रैप में फंसकर तेंदुए की मौत हो जाने से वन विभाग की टीम सक्रिय होकर आरोपियों को पकड़ने जुट गई है ।

मजदूर की सर्पदंश से मृत्यु

मजदूरी करने के लिए धारणी तहसील से नांदगांव खंडेश्वर गए आठ मजदूरों में से एक की  सांप के काटने से मौत हो गई।  जानकारी के मुताबिक यह सभी मजदूर नांदगांव खंडेश्वर के जैन इंडस्ट्रीज में काम करने गए थे। इनमें धुलघाट रोड निवासी पंकज सुंदरलाल धांडे निर्माण कार्य स्थल के पास शाम के समय एक कमरे के सामने खडा था। तब उसे कुछ काटने का एहसास हुआ। कुछ समय में उसे चक्कर आने लगे और वह नीचे गिर पड़ा। यह बात उसके अन्य साथियों को पता चलते ही वें उसे तत्काल नांदगांव खंडेश्वर के सरकारी अस्पताल ले गए। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित किया। मृतक पंकज के साथ उसकी पत्नी भी काम के लिए गई थी। उसकी शादी को अभी एक वर्ष ही हुआ है। पंकज के घर में बीमार मां, एक छोटा भाई और बहन है। पंकज ही मेहनत मजदूरी कर पूरे परिवार का पेट भरता था। इस घटना से उसके  परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।  घटना से धुलघाट रोड ग्राम में शोक व्याप्त है। ग्रामवासियों ने मृतक के परिवार को शासन व प्रशासन की तरफ से आर्थिक सहायता देने की मांग की है।

कमेंट करें
N6qGH