comScore

TVS ने पेश की इथेनॉल से चलने वाली देश की पहली बाइक, Apache RTR 200 Fi E100

TVS ने पेश की इथेनॉल से चलने वाली देश की पहली बाइक, Apache RTR 200 Fi E100

हाईलाइट

  • टीवीएस मोटर के अनुसार यह अपाचे पूरी तरह एथनॉल से चलेगी
  • पेट्रोल से चलने वाली बाइक्स की तुलना में इससे प्रदूषण कम होगा
  • यह अपाचे अभी सिर्फ कर्नाटक, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में बिकेगी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। TVS Motor कंपनी ने इथेनॉल से चलने वाली देश की पहली बाइक ‘TVS Apache RTR 200 Fi E100’ को लॉन्च किया है। इसकी कीमत 1.2 लाख रुपए है। टीवीएस मोटर के अनुसार यह Apache पूरी तरह इथेनॉल से चलेगी। पेट्रोल से चलने वाली बाइक्स की तुलना में इससे प्रदूषण भी कम होगा। हालांकि अभी यह Apache सिर्फ कर्नाटक, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में बिकेगी। 

जल्द खोले जाएंगे इथेनॉल पंप
बाइक के लॉन्च के मौके पर केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी और नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कान्त मौजूद थे। इस दौरान मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि मौजूदा समय में देश के भीतर कोई भी इथेनॉल पंप नहीं है। लेकिन वह पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय से कहेंगे कि देश में इथेनॉल पंप भी खोले जाएं। 

पावर 
इस बाइक में रेग्युलर Apache RTR 200 वाला 197.75 cc इंजन दिया गया है। यह इंजन 20 bhp का पावर और 18 Nm टॉर्क जनरेट करता है। कंपनी का कहना है कि इस बाइक के इंजन को इथेनॉल के उपयोग के लिए EFI सिस्टम के माध्यम से विशेष रूप से तैयार किया गया है। यह बाइक भी स्लिपर क्लच के साथ 5-स्पीड गियरबॉक्स से लैस है। इस बाइक की टॉप स्पीड 129 किलोमीटर प्रति घंटा है।

फीचर्स
TVS Apache RTR 200 Fi E100 में डिजिटल इंस्ट्रूमेंट पैनल दिया गया है, जिसमें बाइक की स्पीड, ओडोमीटर, ट्रिप मीटर, लैप टाइमर और गियर पोजिशन आदि की जानकारी मिलती है। इस बाइक के फ्रंट और रियर, दोनों तरफ डिस्क ब्रेक दिए गए हैं। इस बाइक में सिंगल चैनल एबीएस भी दिया गया है। 

क्या है इथेनॉल 
इथेनॉल , शुगर फर्मेंटेशन प्रॉसेस से तैयार होता है और नॉन-टॉक्सिक होता है। एथनॉल, पेट्रोल का एक विकल्प है, जो पेट्रोल की तुलना में कम प्रदूषण करता है। पेट्रोल के मुकाबले एथनॉल 35 पर्सेंट कम कार्बन का उत्सर्जन करता है। साथ ही इसमें पार्टिक्यूलेट मैटर, सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन भी कम होता है। इन वजहों से इथेनॉल , पेट्रोल की जगह पर पर्यावरण के अनुकूल विकल्प है। 

इथेनॉल का उत्पादन यूं तो मुख्य रूप से गन्ने की फसल से होता है लेकिन शर्करा वाली कई अन्य फसलों से भी इसे तैयार किया जा सकता है। इससे खेती और पर्यावरण दोनों को फायदा होता है। भारतीय परिपेक्ष्य में देखा जाए तो इथेनॉल ऊर्जा का अक्षय स्रोत है क्योंकि भारत में गन्ने की फसल की कमी कभी नहीं हो सकती।

कमेंट करें
caFMe