comScore

दिल्ली : होटल में आग से 17 की मौत, बिना परमिशन चलाया जा रहा था रूफ टॉप रेस्टोरेंट, दो अरेस्ट

February 13th, 2019 01:02 IST
दिल्ली : होटल में आग से 17 की मौत, बिना परमिशन चलाया जा रहा था रूफ टॉप रेस्टोरेंट, दो अरेस्ट

हाईलाइट

  • दिल्ली के करोल बाग स्थित होटल अर्पित पैलेस के महाप्रबंधक और एक अन्य कर्मचारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।
  • मंगलवार तड़के पांच-मंज़िला इस होटल में भीषण आग लग गई थी जिसमें 17 लोगों की मौत हो गई।
  • पांचवीं मंजिल पर फायर सेफ्टी डिपार्टमेंट की परमिशन के बिना अनाधिकृत तरीके से रूफ टॉप रेस्टोरेंट चलाया जा रहा था।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली के करोल बाग स्थित होटल अर्पित पैलेस के महाप्रबंधक और एक अन्य कर्मचारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जबकि होटल मालिक शरदेंदू गोयल फरार हो गया है। मंगलवार तड़के पांच-मंज़िला इस होटल में भीषण आग लग गई थी जिसमें 17 लोगों की मौत हो गई। इस घटना में होटल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही सामने आई है। शुरुआती जांच में पता चला है कि होटल की पांचवीं मंजिल पर फायर सेफ्टी डिपार्टमेंट की परमिशन के बिना अनाधिकृत तरीके से रूफ टॉप रेस्टोरेंट चलाया जा रहा था।

दिल्ली फायर सर्विस डिपार्टमेंट के अधिकारी ने बताया कि इस होटल की पांचवी मंजिल को ईंट की दीवार से बंद कर दिया गया था जिसके बाद अग्नि सुरक्षा संबंधी प्रमाण-पत्र 12 दिसंबर 2014 को  होटल को जारी किया गया। 4 दिसंबर 2017 को दोबारा जब डिपार्टमेंट ने निरीक्षण किया तो पाया कि इसमें फायर सेफ्टी के पर्याप्त इंतजाम नहीं है। हालांकि होटल मालिक ने सुरक्षा नियमों को पूरा करने की बात कही जिसके बाद 24 दिसंबर 2017 को इसे गेस्ट हाउस के लिए फिट बताते हुए तीन साल के लिए सर्टिफिकेट दे दिया गया।

होटल में लगी आग की शुरुआत तड़के लगभग 3:30 बजे पहली मंजिल से हुई थी। देखते ही देखते आग ने भीषण रूप ले लिया और  ये 5वें माले तक फैल गई। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगी थी। आग की चपेट में आने से 17 लोगों की मौत हो गई। ज्यादातर लोगों की मौत दम घुटने से हुई है। जबकि 35 लोग घायल जिनका राम मनोहर लोहिया अस्पताल सहित तीन अन्य अस्पतालों में इलाज चल रहा है। कई लोगों ने होटल की बिल्डिंग से कूदकर भी अपनी जान बचाई। हालांकि इस प्रयास में वह गंभीर रूप से घायल हो गए हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, ने घटनास्थल का दौरा करने के बाद हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 5 लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है। सरकार ने इस घटना की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश भी दिए हैं। गृह मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि उन्होंने अग्निशमन विभाग को उन इमारतों का निरीक्षण करने का निर्देश दिया है जो पांच मंजिल या उससे अधिक हैं। अधिकारियों को एक सप्ताह के भीतर उनकी अग्नि सुरक्षा अनुपालन रिपोर्ट प्रस्तुत करना होगी। 

कमेंट करें
42FeX