comScore
Dainik Bhaskar Hindi

उद्धव ने कहा- बीजेपी से हुआ था मतभेद, कल हुआ तो तरीका बदलेंगे, सीएम बोले जीतेंगे विदर्भ की सभी सीटें

BhaskarHindi.com | Last Modified - March 15th, 2019 20:54 IST

2.1k
0
0
उद्धव ने कहा- बीजेपी से हुआ था मतभेद, कल हुआ तो तरीका बदलेंगे, सीएम बोले जीतेंगे विदर्भ की सभी सीटें

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शिवसेना भाजपा के बीच नए सिरे से जुड़ी गठबंधन की डोर को दोनों दल के नेताओं ने कायम रखने का संकल्प लिया है। भाजपा के विरोध में तल्ख बयानबाजियां करते रहे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा है कि भाजपा के साथ मतभेद हुआ था, कल भी हो सकता है। जो बात उचित नहीं लगेगी, उसका विरोध तो करेंगे लेकिन अब की बार बात का मार्ग बदलेंगे। भाजपा नेताओं से खुले मंच पर उन्होंने कहा कि-हमने व्यक्तिगत कारणों से तुम्हारे से संघर्ष नहीं किया है। अब संघर्ष का कोई विषय ही नहीं बचा है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने ठाकरे को शिवसेना भाजपा गठबंधन का मार्गदर्शक कहा। वहीं भूतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी ने कहा कि रामराज्य व शिवराज्य की अवधारणा समान है। लोकसभा चुनाव की तैयारी के तहत दोनों दल के पूर्व विदर्भ विभागीय पदाधिकारियों का मनोमिलन सम्मेलन हुआ। शुक्रवार को देशपांडे सभागृह में हुए इस सम्मेलन में मंत्री, सांसद, विधायक व अन्य जनप्रतिनिधि भी उपस्थित थे। मंच से नेताओं ने दोनों दल के कार्यकर्ताओं में चुनाव को लेकर उत्साह भरने का प्रयास किया। संकल्प दिलाया गया कि चुनाव में दोनों दल के उम्मीदवार को जिताने के लिए काम करेंगे।

देश की राजनीति में नई चेतना

उद्धव ठाकरे ने कहा कि शिवसेना भाजपा के गठबंधन से राज्य ही नहीं देश की राजनीति में नई चेतना आयी है। हिंदुत्व की आवाज बुलंद हुई है। हममें मतभेद बना रहने की उम्मीद रखनेवाले हिंदुत्व विरोधियों को करारा जवाब मिला है। यह सही है कि 4 वर्ष तक हममें मतभेद रहा। कई बातों पर  विरोध भी किया गया। लेकिन अब एक मंच पर आकर जो खुशी मिल रही है वह लाजवाब है। जब कुछ नहीं था तब भी दोनों दल साथ रहे हैं। बाल ठाकरे साफ साफ कहा करते थे। शिवसैनिकों में भी साफ बात करने की आदत है। नितीन गडकरी ने भी साफ बात करने का व्यवहार बाल ठाकरे से सीखा है। सुरक्षा मामले में पहले की सरकार को आड़े हाथ लेते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस राकांपा के लोग हमें देश प्रेम न सिखाएं। फिलहाल देश में सक्षम नेतृत्व के लिए मोदी नहीं तो और कौन है। हम आंख नहीं मारते हैं, आंख में आंख डालकर काम करते हैं। ठाकरे ने यह भी कहा कि उनकी ओर से जो सवाल उठाए जा रहे थे उसे भाजपा ने मान लिया है। आवश्यक कार्रवाई की गई है। ऐसे में कोई मतभेद नहीं रह गया है। चुनाव जीतने के लिए मैदान साफ है। पर सामने वाले घूंटे हुए राजनीतिज्ञ हैं। समय पर काेई भी कूटनीति की पोटली खोल सकते हैं। इसलिए सबको सजग रहकर काम करना होगा।

पहले की सरकार निर्णय नहीं ले पाती थी

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि पहले की सरकार निर्णय नहीं ले पाती थी। निर्णय नहीं लेना ही उनका निर्णय हुआ करता था। गरीबी हटाने का नारा लगाते रह गए। अब बदलाव हुआ है। नई सरकार के नेतृत्व में नया भारत साकार हुआ है। पाकिस्तान को करारा जवाब दिया गया है। आतंकवादी को मसूदजी कहने वालों की सरकार आएगी तो वे देश का इतिहास बदलने लगेंगे। गडकरी ने विकास योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि चुनाव जीतने के लिए जनता को मूर्ख बनाने की आवश्यकता नहीं है। विदर्भ की सभी सीटें जीतेंगे। 10 बनाम जीरो का मुकाबला कायम रहेगा। पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर जोशी ने कहा कि दोनों दल में समन्वय रहना चाहिए। वे महापौर, मुख्यमंत्री, लोकसभा के अध्यक्ष बने थे। शिवसेना प्रमुख का स्नेह तो था ही लेकिन भाजपा का भी साथ मिला। खासकर प्रमोद महाजन ने केंद्र में मौका दिलाया था। वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार,सांसद अशोक नेते, रामदास तड़स, विधायक नाना शामकुले, शिवसेना के जिला प्रमुख प्रकाश जाधव ने भी संबोधित किया। प्रस्तावना सांसद कृपाल तुमाने ने रखी। संचालन विधायक सुधाकर कोहले ने किया। केंद्रीय गृहराज्यमंत्री हंसराज अहिर, दत्ता मेघे, अजय संचेती सहित अन्य नेता उपस्थित थे। 


 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें
Survey

app-download