comScore

UN की रिपोर्ट में दावा, जमाल खशोगी की हत्या में सऊदी क्राउन प्रिंस शामिल


हाईलाइट

  • जमाल खशोगी की हत्या के तार सऊदी क्राउन प्रिंस के साथ जुड़ते दिखाई दे रहे हैं
  • यूएन की एक्सपर्ट एगनेस क्लामर्ड की रिपोर्ट में ठोस सबूतों के आधार पर ये दावा किया गया है
  • इस्तांबुल के सऊदी दूतावास में जमाल खशोगी की हत्या कर दी गई थी

डिजिटल डेस्क, जेनेवा। पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के तार सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के साथ जुड़ते हुए दिखाई दे रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ (यूएन) की एक्सपर्ट एगनेस क्लामर्ड की रिपोर्ट में ठोस सबूतों के आधार पर ये दावा किया गया है। बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में इस्तांबुल के सऊदी दूतावास में जमाल खशोगी की हत्या कर दी गई थी। खशोगी अपने लेखों में सऊदी प्रिंस सलमान की तीखी आलोचना करते थे. इसलिए उनकी हत्या होते ही इसके पीछे प्रिंस सलमान का हाथ होने की बात कही जाने लगी।

क्लामर्ड का कहना है कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस को खशोगी की हत्या पर अंतर्राष्ट्रीय जांच शुरू करनी चाहिए। उन्होंने कहा, खशोगी अमेरिका में रहते थे, इसलिए हत्या की जांच में एफबीआई को लगाया जाना चाहिए। क्लामर्ड ने अपनी रिपोर्ट में दूतावास में हत्या के सीसीटीवी फुटेज देखने का भी दावा किया है। तुर्की भी खशोगी के हत्या के मामले की जांच कर रहा है। क्लामर्ड ने इस जांच को कानूनी तौर पर गलत बताया है। उन्होंने कहा कि सऊदी सरकार ने विशेषाधिकारों का इस्तेमाल कर तुर्की में जांच को प्रभावित किया।

उधर, रियाद ने रिपोर्ट पर कोई तत्काल प्रतिक्रिया नहीं दी, जिसे 100-पृष्ठ की रिपोर्ट पहले ही भेज दी गई थी। सऊदी अरब अपने रुख पर अभी भी कायम है जो क्राउन प्रिंस के इस मामले में शामिल होने से शुरू से ही इनकार करता रहा है। सऊदी अधिकारियों ने कहा था कि दूतावास में जो कुछ भी हुआ, उसके लिए सऊदी एजेंट ही जिम्मेदार हैं। प्रिंस सलमान की तरफ से उन्हें कोई निर्देश नहीं मिले थे। सऊदी में इस मामले से जुड़े 5 लोगों को सजा-ए-मौत सुनाई गई है। यूएन एक्सपर्ट ने अपनी रिपोर्ट में इस ट्रायल को अंतराराष्ट्रीय मानकों के मुताबिक न होने का हवाला देते हुए रद्द करने के लिए कहा है।

बता दें कि अमेरिका के वॉशिंगटन पोस्ट में कॉलमिस्ट और क्राउन प्रिंस के आलोचक थे। आखिरी बार वह 2 अक्टूबर को इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास के अंदर जाते हुए देखे गए थे। वह शादी के लिए जरूरी दस्तावेज लेने के लिए दूतावास में गए थे। बाद में खुलासा हुआ था कि उनकी दूतावास में ही हत्या कर दी गई। सउदी ने भी इस बात को कबूल कर लिया था कि दूतावास में ही खशोगी की हत्या हुई है। हालांकि किंग मोहम्मद बिन सलमान ने कहा था कि उन्हें खशोगी की हत्या के बारे में जानकारी नहीं थी।

कमेंट करें
GNp7d