comScore

रेलवे स्टेशन में लावारिस बैग से हड़कंप, खोला तो सब चौक गए...

रेलवे स्टेशन में लावारिस बैग से हड़कंप, खोला तो सब चौक गए...

डिजिटल डेस्क, शहडोल। रेलवे स्टेशन में मिले एक लावारिस बैग से हड़कंप मच गया। आरपीएफ को मिली सूचना के बाद बैग में विस्फोटक आदि होने की आशंका पर बम निरोधक दस्ते को बुलाया गया। जिसने बारीकी से जांच पड़ताल किया। उसके बाद बैग को खोलकर देखा गया तो सुरक्षा अमले की आंख फटी रह गईं, क्योंकि बैग के अंदर 58990 रुपये नगद के अलावा 50 हजार व 26 हजार के दो अलग-अलग चेक तथा लाल रंग की दो डायरियां रखी थीं। 

गार्ड रूम के सामने रात भर से पड़ा था

रेलवे सुरक्षा अधिकारियों को हैरान करने वाली बात इसलिए भी थी क्योंकि महरून कलर का वह बैग प्लेटफार्म नंबर एक के दूसरे गेट के अंदर गार्ड रूम के सामने रात भर से पड़ा था। इसकी सूचना मंलगवार को सुबह मिल पाई। 15 अगस्त के कारण सुरक्षा पर ध्यान दिया जा रहा है। बैग में विस्फोटक आदि की आशंका पर बम निरोधक दस्ते को जानकारी दी गई। दस्ता प्रभारी रीतेश ज्ञानी सदल बल वहां पहुुंचे और काफी देर बैग को जायजा लिया। जांच के बाद कि बैग में विस्फोटक नहीं है, उसे खोलकर देखा गया जो उक्त सामान मिला।

सब्जी विक्रेता के मुनीम का था बैग

बैग की तलाशी में एक कार्ड मिला, जिसमें इन्द्र कुमार केशरवानी व मोबाइल नंबर दर्ज था। आरपीएफ ने फोन लगाकर सारी स्थिति बताई तो पता चला कि यह बैग उनके मुंशी का है, जो कटनी से शहडोल, बुढ़ार आदि स्थानों पर वसूली के लिए आया था। व्यापारी का मुंशी वृंदावन साहू वसूली के बाद कटनी जाने के लिए स्टेशन पहुंचा। बताया गया है कि नशे की हालत में वह नहीं समझ पाया कि कौन सी ट्रेन में बैठना है। रीवा-चिरमिरी ट्रेन आई तो समझा कि अंमरकंटक एक्सप्रेस आई। बैग वहीं भूलकर ट्रेन में जा चढ़ा। बुढ़ार पहुंचने पर समझ पाया कि गलत ट्रेन में बैठ गया है। अनूपपुर में उतरकर अपने सेठ को फोन पर सारी बात बताई। बैग स्टेशन में पड़ा था और ट्रेन में तलाश कर रहे थे। जब आरपीएफ का फोन पहुंचा तो पता चला कि बैग स्टेशन में ही छूट गया था। जांच पड़ताल के बाद देर शाम बैग मालिक के मुंशी के हवाले कर दिया गया।
 

कमेंट करें
fWBXO