comScore

बादल की हत्या में गाँव के ही लोगों का हाथ, विवेचना में जुटी पुलिस

बादल की हत्या में गाँव के ही लोगों का हाथ, विवेचना में जुटी पुलिस

डिजिटल डेस्क,जबलपुर। चरगवां के ग्राम बिजौरी सगड़ा में दस साल के बालक बादल की हत्या के मामले में अब इस बात की पुष्टि हो गई है कि हत्या का आरोपी और कोई नहीं, बल्कि गाँव का ही है। जिन लोगों ने हत्या की है, उनकी संख्या भी दो या दो से अधिक होने की संभावना जताई जा रही है। करीब 50 से अधिक लोगों से  पुलिस अधिकारियों की टीम ने पिछले तीन दिन में की गई पूछताछ के बाद यह आशंका जताई है कि बादल की हत्या किसी बाहर के व्यक्ति ने नहीं की है। हत्या गाँव के ही किसी व्यक्ति ने की है और उसमें दो से अधिक लोगों का हाथ है।

यह काम अकेले नहीं कर सकता हत्यारा

हत्या की जाँच कर रही टीम का कहना है कि अभी तक की जाँच में यही पता लगा है कि हत्या कहीं और की गई है और उसके बाद शव को बोरे में भरकर खाली पड़े मकान में पीछे के दरवाजे से ले जाकर भीतर फेंक दिया गया । इस काम में किसी अकेले व्यक्ति का हाथ नहीं हो सकता । बादल को परिचित द्वारा ही मौत के घाट उतारे जाने के पीछे तात्कालिक कारण होने की आशंका जताई जा रही है। बादल के पिता की किसी से रंजिश भी नहीं थी, जिसके कारण यह भी नहीं कहा जा सकता है कि रंजिश के कारण बादल की हत्या की गई है।

एसपी ने भी की कवायद

वजह तलाशने के लिए एसपी निमिष अग्रवाल भी अधिकारियों की टीम को लेकर चरगवाँ पहुँचे और उन्होंने भी करीब एक दर्जन संदेहियों से पूछताछ की । इस पूछताछ में केवल यही पता लग पाया है कि किसी बाहर के व्यक्ति ने इस घटना को अंजाम नहीं दिया है, क्योंकि बाहर का व्यक्ति लाश को फेंकने के लिए गाँव का खंडहर मकान नहीं तलाशता।

घटनास्थल की तलाश

पुलिस ने शनिवार को पूरे दिन उस घटनास्थल की खोजबीन की, जहाँ पर बादल की हत्या की गई थी। इसके चलते गाँव के हर मकान के आसपास जाँच की गई है। इसी सिलसिले  में जिस खंडहर मकान में लाश मिली थी, वहाँ के आसपास की जमीन पर पड़े खून को भी मिट्टी डालकर छुपाने की कोशिश की गई है। थोड़ी दूर तक ही वे निशान मिले उसके बाद यह पता नहीं चल रहा है कि बादल को कहाँ से लाकर खंडहर में फेंका गया।

कमेंट करें