comScore
Dainik Bhaskar Hindi

गौमांस मिलने पर बुलंदशहर में भड़की हिंसा, इंस्पेक्टर समेत दो की मौत

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 04th, 2018 12:29 IST

5k
0
0
गौमांस मिलने पर बुलंदशहर में भड़की हिंसा, इंस्पेक्टर समेत दो की मौत

News Highlights

  • गौमांस मिलने के बाद सोमवार को बुलंदशहर के स्याना कोतवाली इलाके में हिंसा भड़क गई।
  • इस हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई जिसमें एक पुलिस अधिकारी भी शामिल है।
  • घटना के बाद इलाके में शांति बहाल करने के लिए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।


डिजिटल डेस्क, लखनऊ। गौमांस मिलने के बाद सोमवार को बुलंदशहर के स्याना कोतवाली इलाके में हिंसा भड़क गई। इस हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई जिसमें एक पुलिस अधिकारी भी शामिल है। भीड़ की फायरिंग में एक सिपाही को भी गोली लगी है। घायल सिपाही को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत नाजुक बताई जा रही है। घटना के बाद इलाके में शांति बहाल करने के लिए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। हालांकि स्थिति अभी भी तनावपूर्ण बनी हुई है। प्रशासन ने लोगों से किसी भी तरह की अफवाह पर ध्यान न देने की अपील की है।

पुलिस ने इस मामले में 27 नामजद और 50-60 अज्ञात लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की है। पुलिस ने आईपीसी की धारा 147,148,149,307,302,333,353,427,436,394 और 7-क्रिमिनल अमेंडमेंट लॉ के तहत मामला दर्ज किया है। इस मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित की गई है।

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने दो दिनों में इस मामले की रिपोर्ट मांगी है। योगी आदित्यनाथ ने इंस्पेक्टर सुबोध की मौत पर उनकी पत्नी को 40 लाख रुपए, माता-पिता को 10 लाख और सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है। बता दें कि सुबोध कुमार सिंह 28 सितंबर 2015 से 9 नवंबर 2015 तक दादरी के अखलाक लिंचिंग केस के जांच अधिकारी भी रह चुके हैं। सुबोध कुमार को मंगलवार सुबह बुलंदशहर पुलिस लाइन में श्रद्धांजलि दी जाएगी। उनका अंतिम संस्कार एटा स्थित उनके पैतृक निवास पर किया जाएगा।

इस हिंसा की शुरुआत उस वक्त हुई जब सोमवार सुबह ग्रामीणों को सूचना मिली थी कि चिंगरावटी इलाके में गौहत्या की गई है। इसके बाद हिंदू संगठन के लोग सड़कों पर उतर आए और प्रदर्शन करने लगे।  प्रदर्शनकारियों ने बुलंदशहर हाईवे को जाम कर दिया। देखते ही देखते यह प्रदर्शन उग्र हो गया और उपद्रवियों ने पुलिस चौकी को अपने निशाने पर ले लिया और जमकर तोड़ फोड़ की। पुलिस की वैन सहित करीब एक दर्जन गाड़ियों को उपद्रवियों ने आग के हवाले कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने पथराव, कई राउंड फायरिंग और आगजनी की जिसमें एक पुलिस इंस्पेक्टर की मौत हो गई। जान गवाने वाले इंस्पेक्टर का नाम सुबोध कुमार सिंह है। वह एटा जिले के रहने वाले थे। इंस्पेक्टर सुबोध की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में उनको गोली लगने (बुलेट इंजरी) की पुष्टि हुई है।

रिपोर्ट के मुताबिक बुलेट उनकी बाईं भौंह से होते हुए सिर के अंदर चली गई। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पॉइंट 32 बोर के हथियार से गोली चलने की बात सामने आई है। इसके अलावा पुलिस की जवाबी फायरिंग में सुमित नाम के एक प्रदर्शनकारी को भी गोली लगी जिसकी अस्पताल में मौत हो गई। घटना में कई और पुलिसकर्मी और प्रदर्शनकारी भी घायल हुए हैं।

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने कहा कि खेत में गोवंश का मांस मिला था जिसके बाद ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया। ग्रामीण इस मांस को ट्रैक्टर में लेकर सड़क पर आ गए और सड़क जाम कर दी। उन्होंने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया और फायरिंग भी की। घटना में दो लोगों की मौत की एडीजी ने पुष्टी की है। शांति बहाल करने के लिए इलाके में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। उन्होंने बताया कि घटना की जांच के लिए आईजी रेंज मेरठ की अध्यक्षता में एक एसआईटी गठित की गई है। यह 3-4 सदस्यीय होगी।

वहीं, एडीजी ने साफ तौर पर कहा कि जो भी माहौल खराब करने की कोशिश करेगा उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। एडीजी ने कहा, इस मामले में कुछ विडियो सामने आए हैं, जिनसे असामाजिक तत्वों को चिन्हित किया जा रहा है। सभी पहलुओं की जांच की जाएगी। बुलंदशहर के स्याना थाने में हुई यह घटना जिस स्थान पर हुई वह जगह जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें