comScore
Dainik Bhaskar Hindi

वंचित बहुजन आघाड़ी ने लोस चुनाव के लिए कांग्रेस से मांगी 12 सीटें, भेजा प्रस्ताव

BhaskarHindi.com | Last Modified - August 11th, 2018 16:39 IST

434
0
0
वंचित बहुजन आघाड़ी ने लोस चुनाव के लिए कांग्रेस से मांगी 12 सीटें, भेजा प्रस्ताव

डिजिटल डेस्क, नागपुर। लोकसभा चुनाव की तैयारी करते हुए वंचित बहुजन आघाड़ी ने कांग्रेस से 12 सीटें मांगी है। जाति, धर्म की राजनीति को दूर करने के आह्वान के साथ वंचित बहुजन आघाड़ी ने लोकसभा चुनाव में 12 सीटें देने का प्रस्ताव कांग्रेस को भेजा है। भारिप बहुजन महासंघ के अध्यक्ष प्रकाश आंबेडकर के नेतृत्व में बनी वंचित बहुजन आघाड़ी ने लोकसभा चुनाव में महाराष्ट्र में ताकत दिखाने की तैयारी की है। जिला स्तर पर विविध संगठनों के साथ चर्चा की जा रही है।

संविधान के संरक्षण के आह्वान के साथ विविध राजनीतिक दलों को साथ आने को कहा जा रहा है। आंबेडकर ने कहा है कि राज्य में वंचित बहुजन आघाड़ी में ऐसे समाज का प्रतिनिधित्व है, जो संख्याबल के आधार पर राज्य की राजनीति में चुनाव परिणाम को प्रभावित कर सकते हैं। 

परिवारवाद पर चल रहा लोकतंत्र
प्रेस कांफ्रेंस में आंबेडकर ने बताया कि वंचित बहुजन आघाड़ी में धनगर व भटक्या विमुक्त जाति समाज के संगठनों का प्रमुखता से समावेश है। इन संगठनों ने किसी भी स्थिति में अन्य राजनीतिक दलों से गठबंधन नहीं करने का निर्णय लिया है। देश में लोकतंत्र परिवारवाद व धार्मिक शक्ति के आधार पर चल रहा है। लोकतंत्र को सही मायने में स्थापित करने के लिए संविधान को मानने वाले सभी संगठनों को साथ आना होगा।

वंचित बहुजन आघाड़ी का मानना है कि कांग्रेस संविधान को मानती है। कांग्रेस में भी जातिवाद है, लेकिन महात्मा गांधी के समय से जो कांग्रेस चल रही है, उसका लक्ष्य संविधान के अनुरूप कार्य करना है। आंबेडकर ने यह भी कहा कि आरएसएस व भाजपा संविधान को बदलना चाहती है। वंचित बहुजन आघाड़ी ओबीसी में भी छोटे ओबीसी के तौर पर एक वर्ग को देखती है। उस वर्ग को भी राजनीतिक भागीदारी मिलनी चाहिए।

आरएसएस को स्पष्ट करना चाहिए कि नोटबंदी के कुछ समय पहले उसे दान में मिले 300 करोड़ रुपए कहां रखे गए, नोट कैसे बदले गए। राफेल मामले में केंद्र सरकार पर सभी को दबाव बनाना चाहिए। इस मामले में स्पष्ट होना चाहिए कि इस तरह के सौदे के मामले का संसद में खुलासा होना चाहिए या नहीं। पत्रकार वार्ता में लक्ष्मण माने, विजय मोरे, सागर डबरासे, संजय हेडाऊ, राजू लोखंडे उपस्थित थे।
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर