comScore
Dainik Bhaskar Hindi

VIDEO : Hero Splendor का ये वीडियो देखकर याद आएगी ‘Ghost Rider’

BhaskarHindi.com | Last Modified - June 30th, 2018 15:28 IST

5.2k
1
0
VIDEO : Hero Splendor का ये वीडियो देखकर याद आएगी ‘Ghost Rider’

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। Hero Splendor इंडिया की सबसे ज्यादा बिकने वाली मोटरसाइकिल है। इंडिया की पसंदीदा कम्यूटर बाइक अपने माइलेज और जांचे-परखे इंजन के लिए जानी जाती है। पेश है Splendor का एक वीडियो जहां ये बाइक अजीब और अनदेखा कर रही है। इसे देख आपको शायद फेमस हॉलीवुड मूवी ‘Ghost Rider’ की याद जरूर आयेगी।  इस वीडियो में एक Hero Splendor अपने जलते हुए पीछे वाले चक्के के साथ बर्नआउट कर रही है। हां, आपने सही पढ़ा, इस वीडियो में एक Splendor फ्लाईओवर के सहारे टिक कर बर्नआउट कर रही है। अक्सर हम बर्नआउट्स में धुआं निकलते हुए देखते हैं लेकिन यहां पर पीछे वाला चक्के में आग लगी हुई है और उसने एक प्रकार का हैलो भी बना रखा है। आमतौर पर ऐसे मौके नहीं आते जहां एक Splendor धुएं वाले टायर्स या व्हीली करते हुए दिखे। ये कुछ ऐसा है जो पहली बार देखा गया है।

रोड से तेज घर्षण की वजह से पीछे वाला चक्का बेहद गर्म हो गया है और धीरे-धीरे वो घना सफेद धुआं छोड़ना शुरू करता है जिससे टायर के जलने की महक आती है। टायर का खुद से आग पकड़ लेना बड़ी बात होती है क्योंकि ऐसा होने के लिए तापमान काफी ऊंचा होना चाहिए। कई लोग टायर जलाने के लिए उसपर तेल छिड़क उसे लाइटर से जला देते हैं या कोई और तरकीब से उसे जलाते हैं। इससे काफी नाटकीय नजारा और नतीजा मिलता है। रबर आसानी से आग पकड़ लेता है और हवा के बावजूद जलते हुए बड़ा नाटकीय प्रभाव छोड़ता है।

क्या ये सेफ है?

बिलकुल भी नहीं, गाड़ी के किसी भी हिस्से में आग लगाना काफी खतरनाक होता है। आग तेजी से फैल सकती है और फायर लाइन तक पहुंच सकती है जिससे पूरी मोटरसाइकिल बर्बाद हो सकती है। साथ ही कुछ पार्ट्स जैसे बैटरी, सीट कवर, सीट और कुछ प्लास्टिक के हिस्से जैसे बैटरी कवर बड़ी जल्दी आग पकड़ लेते हैं। और तो और, आम सड़क पर ऐसा करना खतरनाक होने के साथ ही गैरकानूनी भी है। बर्नआउट्स करने से भी आपके मोटरसाइकिल पर बुरा असर पड़ता है। रियर व्हील के जबरदस्त घर्षण के चलते इंजन और ट्रांसमिशन पर बहुत जोर पड़ता है और आम राइडिंग के मुकाबले उनमें जल्दी वियर-टियर होता है। ये आपके मोटरसाइकिल के लाइफ को काफी हद तक घटा सकती है। साथ ही टायर लाइफ तो कम होती ही है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें