comScore
Dainik Bhaskar Hindi

कुंए में गिरी हथिनी की मदद में जुटा सारा गांव, 40 घंटे की मशक्कत के बाद निकली बाहर

BhaskarHindi.com | Last Modified - November 15th, 2017 11:12 IST

996
0
0

डिजिटल डेस्क, रायपुर। छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में लोगों ने इंसानियत की एक अनूठी मिसाल पेश की है। दरअसल इस क्षेत्र में हाथियों का काफी आतंक है और हाथियों के झुंड ग्रामीणों की फसलों को तबाह करते हैं। इसी तरह हाथियों का एक झुंड सूरजपुर जिले के प्रतापपुर सर्कल के नावाधक्की गांव में घुस आया। हाथियों के दस्तक देते ही ग्रामीण नींद से जागे और देखा कि माजरा क्या है। इतने में हाथियों में भगदड़ मच गयी लेकिन उनमें एक हथिनी सूखे कुएं में गिर गयी। जिसकी जान बचाने के लिए गांव वालों को लगभग 40 घंटे से ज्यादा संघर्ष करना पड़ा।

गंभीर चोट से तड़प रही थी हथिनी

दरअसल सूखे कुएं में गिरने से हथिनी को पैर और कमर में गंभीर चोटें आई थीं और वो बाहर निकलना तो दूर अपने पैर पर खड़े होने की हालत मे भी नहीं थी। उसे इस हालत मे देखकर गांव वालों ने तुरंत वन विभाग को सूचना दी जिसके बाद अमला मौके पर पहुंचा। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए जेसीबी मशीन से कुंए तक एक रास्ता खोदा गया, लेकिन गंभीर घायल होने की वजह से वो हथिनी नहीं निकल पा रही थी। हथिनी को निकालने के इन सब उपायों के चलते शाम ढल गयी तो हथिनी को वहीं चारा और पानी दिया गया।

क्रेन से खींच कर निकाला बाहर

रविवार रात कुंए में गिरी हथिनी को मंगलवार सुबह क्रेन से खींच कर बाहर निकाला गया। दोपहर करीब दो बजे के आस-पास बड़ी मशक्कत से उसे बाहर निकाला गया, लेकिन परेशानी ये थी कि पैर और कमर में गंभीर चोट होने के कारण वो हथिनी चलना तो दूर खड़ी भी नहीं हो पा रही थी। उसे बाद में एक ट्रक पर लाद कर ले जाया गया। फिलहाल उसका इलाज जारी है। 
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर