comScore

मोरडोंगरी जलाशय से नहीं लेने दिया पानी, ग्रामीणों के विरोध के चलते लौटी नपा की टीम

मोरडोंगरी जलाशय से नहीं लेने दिया पानी, ग्रामीणों के विरोध के चलते लौटी नपा की टीम

डिजिटल डेस्क, पांढुर्ना/छिन्दवाड़ा। जलसंकट की स्थिति में पांढुर्ना शहर में जलापूर्ति को लेकर जिला कलेक्टर कार्यालय से मोरडोंगरी जलाशय का पानी रिजर्व रखने के निर्देश जारी हुए थे। शनिवार को जब स्थानीय नगर पालिका ने मोरडोंगरी जलाशय से पानी लेने की व्यवस्था पर काम शुरू किया तो मोरडोंगरी, पारडी और मालेगांव के ग्रामीणों का विरोध सामने आया। प्रशासनिक अधिकारियों ने जलापूर्ति शुरू कराने को लेकर ग्रामीणों से मदद की बात कही, पर वें नही मानें। आखिरकार प्रशासनिक अधिकारियों और नगर पालिका की टीम को बैरंग वापस लौटना पड़ा।

ग्रामीणों ने किया विरोध प्रदर्शन 
पांढुर्ना शहर में अब तक मोही और जुनेवानी जलाशय से आपूर्ति हो रही थी, पर शुक्रवार को दोनों जलाशयों से एकाएक जलापूर्ति रूकने के बाद नगर पालिका ने शनिवार को मोरडोंगरी जलाशय से जलापूर्ति को लेकर काम शुरू किया। नपा की टीम ने जलाशय पर पहुंचकर मोटर पंप लगाने, लाइन बिछाने और पाइप लाइन विस्तार का काम शुरू ही किया था कि यहां बड़ी संख्या में मोरडोंगरी सहित पारडी और मालेगांव के ग्रामीणों ने पहुंचकर विरोध प्रदर्शन किया और काम रूकवा दिया। स्थिति की गंभीरता को भांपते हुए सीएमओ नवनीत पांडे सहित तहसीलदार शंकरलाल मरावी, टीआई कंवलजीतसिंह रंधावा और सीईओ विजयलक्ष्मी मरावी ने मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को समझाने की कोशिश की पर ग्रामीण नही मानें।

हर साल आता है संकट
पारडी सरपंच रोशन पराडकर, मोरडोंगरी सरपंच शालू बागड़े सहित विरोध प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों ने कहा कि हर साल आने वाले जलसंकट को देखते हुए बीते चार सालों से मोरडोंगरी जलाशय से सिंचाई के लिए पानी नही लिया जा रहा है। ताकि स्थिति बिगड़ने के बाद मोरडोंगरी के अलावा इसके आसपास के पांच गांवों में जलापूर्ति कर सकें पर पांच गांवों के संकट के बजाय जलाशय से पांढुर्ना पानी ले जाने की तैयारी की जा रही है, जो पांच गांवों के ग्रामीणों के साथ अन्याय है। विरोध के दौरान प्रशासनिक अधिकारियों ने ग्रामीणों को समझाइश दी, पर वें पानी नही ले जाने देने की बात पर अड़े रहे।

पाइप लाइन विस्तार को लेकर हो रहा था काम
जिला कलेक्टर के आदेश के चलते पांढुर्ना शहर की जलापूर्ति को लेकर मोही, मांडवी, मोरडोंगरी और भाजीपानी जलाशय को रिजर्व रखने के आदेश हुए थे। जिसके आधार पर मोही जलाशय से पानी लिया जा रहा था, पर इसके सूखने के बाद मोरडोंगरी जलाशय से पानी लेने की योजना पर नगर पालिका ने काम शुरू किया। शनिवार को नगर पालिका ने मोटर पंप और अन्य संसाधन ले जाकर मोरडोंगरी जलाशय से पानी लाने का काम शुरू किया था कि ग्रामीणों का विरोध सामने आया। जिसके चलते नपा को काम रोकना पड़ा। इसके पहले नगर पालिका जलाशय से पानी लाने के लिए पाइप लाइन विस्तार पर काम कर रही थी, जिसको लेकर निविदा भी जारी हुई थी, पर आचार संहिता के चलते काम अटका हुआ था। पर अब ग्रामीणों के विरोध के बाद फिलहाल पूरी योजना पर विराम लग गया है।

कमेंट करें
uaDHy