comScore

मुर्गियों के पंख, चिकन के टुकड़े और ताबीज से सुलझी महिला के कत्ल की गुत्थी

मुर्गियों के पंख, चिकन के टुकड़े और ताबीज से सुलझी महिला के कत्ल की गुत्थी

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मुर्गियों के पंख, चिकन के टुकड़े और ताबीज के सहारे ठाणे ग्रामीण पुलिस एक महिला की हत्या की गुत्थी सुलझाने में कामयाब रही। हत्या के मुख्य आरोपी को पुलिस ने पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार कर लिया है जबकि एक और आरोपी फरार है। सबूत मिटाने के लिए आरोपियों ने हत्या के बाद महिला का शव जलाने की कोशिश की थी लेकिन कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस आरोपियों तक पहुंचने में कामयाब रही। इसी साल 23 जून को ठाणे जिले के कल्याण इलाके में राया-खडवली मार्ग के करीब एक 25-30 साल की महिला का शव मिला था। हत्या के बाद सबूत मिटाने के लिए महिला के शव को आग लगा दी गई थी। छानबीन में जुटी पुलिस ने पाया कि शव जिस बोरी में डालकर फेंका गया था उसमें बड़ी संख्या में मुर्गियों के पंख और चिकन के टुकड़े मिले। महिला ने अपनी कमर में एक ताबीज पहना था जिसमें बंगाली भाषा में कुछ लिखा था। इन सबूतों के आधार पर पुलिस ने अंदाजा लगाया कि महिला मूल रूप से पश्चिम बंगाल की है और उसकी हत्या करने वाला चिकन-मटन की दुकान चलाने वाला हो सकता है। इसके बाद पुलिस ने टिटवाला इलाके में पश्चिम बंगाल के चिकन, मटन की दुकान चलाने वालों की पहचान शुरू की। इसी बीच पता चला कि हत्या के बाद से ही आलम शेख नाम का एक व्यक्ति गायब है। साथ ही पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की तो पता चला कि शेख की मोनी नाम की एक महिला से दोस्ती थी जो पिछले कुछ दिनों से नहीं दिखाई दे रही है। इसके बाद पुलिस की एक टीम ने आलम को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार कर लिया। 

पूछताछ में उसने बताया कि उसकी पिछले कुछ महीनों से मोनी से पहचान हुई इसके बाद दोनों के बीच करीबी संबंध बन गए। मोनी आलम से करीब ढाई लाख रुपए उधार ले चुकी थी। इसके अलावा वह और पैसे मांग रही थी। अपने पुराने पैसे न मिलने और लगातार पैसों की मांग से नाराज आलम ने अपने दोस्त मनोरुद्दीन की मदद से मफलर से गला घोंटकर मोनी की हत्या कर दी। इसके बाद शव बोरी में भरकर मोटर साइकल से सुनसान इलाके में ले गया और उस पर मिट्टी का तेल छिड़कर आग लगा दी। सीनियर इंस्पेक्टर व्यंकट आंधले ने बताया कि मनोरुद्दीन की तलाश की जा रही है।   

कमेंट करें
qO7BM