comScore

World Wrestling Championship 2018: बजरंग जापान के ताकुतो से हारे, सिल्वर से करना पड़ा संतोष

October 23rd, 2018 14:23 IST

हाईलाइट

  • फ्रीस्टाइल 65 किग्रा भार वर्ग के फाइनल में ओतोगुरो ने बजरंग को 16-9 से मात देकर गोल्ड जीता
  • बजरंग ने 2013 में फ्रीस्टाइल 61 किग्रा भार वर्ग में देश के लिए ब्रॉन्ज मेडल जीता था
  • बजरंग विश्व चैम्पियनशिप में दो मेडल जीतने वाले पहले भारतीय पहलवान बने

बुडापेस्ट (हंगरी)। भारत के स्टार रेसलर बजरंग पुनिया ने सोमवार को विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में भारत को सिल्वर मेडल दिलाया। बजरंग का फ्रीस्टाइल 65 किग्रा भार वर्ग के फाइनल में गोल्ड के लिए मुकाबला जापान के ताकुतो ओतोगुरो से हुआ। जिसमें ताकुतो ओतोगुरो ने बजरंग को 16-9 से मात देखर गोल्ड पर कब्जा जमाया। इस हार के बाद बजरंग का गोल्ड का सपना आधुरा रहा ओर उन्हें सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। वहीं इस मुकाबले को जितने पर ताकुतो विश्व चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाले जापान के सबसे युवा पहलवान बने।

बजरंग भले ही गोल्ड मेडल जितने में नकामयाब रहे, लेकिन वे विश्व चैम्पियनशिप में दो मेडल जीतने वाले पहले भारतीय पहलवान बन गए हैं। इससे पहले उन्होंने 2013 में इसी जगह फ्रीस्टाइल 61 किग्रा भार वर्ग में देश के लिए ब्रॉन्ज मेडल जीता था। बजरंग ने इस साल कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन में गोल्ड मेडल जीते हैं। 

वहीं अगर हम इतिहास की बात करें तो विश्व चैम्पियनशिप के 67 साल के इतिहास में भारत अब तक एक ही गोल्ड मेडल जीत पाया है। सुशील कुमार ने भारत के लिए 2010 मॉस्को वर्ल्ड चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था। इसके अलावा सुशील दो ओलिंपिक गेम्स में भी मेडल जीत चुके हैं।

बजरंग ने क्वालिफिकेशन राउंड में मेजबान हंगरी के रोमन अशरिन को 9-4 से हराया। इसके बाद प्री-क्वार्टरफाइनल में कोरिया के स्युंगचुल ली को 4-0 से मात दी थी। वहीं क्वार्टरफाइनल में मंगोलिया के तुलगा तुमुर ओछीर को 5-3 से हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया। उसके बाद सेमीफाइनल में उन्होंने क्यूबा के एलेसांद्रो एनरिक को 4-3 से मात देकर फाइनल में अपनी जगह बनाई थी। 

चैम्पियनशिप के फाइनल मुकाबले में जापान के ताकुतो आक्रामक शुरुआत करते हुए। मुकाबले के पहले 30 सेकंड में ही वे 5-0 से आगे हो गए थे। उसके बाद बजरंग ने दमदार वापसी की और लगातार अंक बनाए। तीन मिनट के पहले राउंड के बाद बजरंग 6-7 से पीछे थे। इसके बाद जापानी खिलाड़ी ने बजरंग को कोई मौका नहीं दिया और लगातार अंक अर्जित किए और बढ़त 12-6 कर ली। छह मिनट तक चले इस मुकाबले में बजरंग वापसी करने में नकामयाब रहे। मुकाबले में दमदार प्रदर्शन करते हुए 19 साल के ताकुतो ने 16-9 से मुकाबला जीत लिया और गोल्ड मेडल पर कब्जा किया।

कमेंट करें
fqyGR