दैनिक भास्कर हिंदी:   राशन दुकान मालिक को 50 लाख का बीमा, दुकान में काम करने वाले भगवान भरोसे 

June 15th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राज्य सरकार ने राशन दुकानदार की कोरोना से मौत होने पर 50 लाख की बीमा राशि देने का निर्णय लिया है, लेकिन राशन दुकानों में काम करने वाले के लिए फूटी कौड़ी का भी प्रावधान नहीं किया गया है। अधिकांश राशन दुकानें कर्मचारी ही चलाते हैं। इस  प्रकार कर्मचारी की जिंदगी एक तरह से भगवान भरोसे हो गई है। राशन दुकानदारों का कहना है कि, सरकार ने बीमा कवच की आधी ही सौगात दी है।

दुकानदारों ने कहा, हमने तो दोनों के लिए कवच मांगा था
नागपुर जिले में 13 सौ से ज्यादा राशन दुकानें हैं। दुकान सप्ताह में छह दिन खोलने का नियम है। अधिकांश दुकानों में मालिक के कहने पर कर्मचारी ही राशन बांटते हैं। दुकानों में जो पीओएस मशीनें लगी हैं, उसमें मालिक व कर्मचारी, दोनों के अंगूठे अधिकृत हैं। यानी मालिक या कर्मचारी इस मशीन पर अंगूठा लगाकर राशन वितरित कर सकते हैं। राशन दुकानदारों ने दोनों के लिए सुरक्षा कवच मांगा था। आंदोलन के बाद राज्य सरकार ने दुकान मालिकों को 50 लाख का सुरक्षा कवच देने की मांग मंजूर की है। ऐसे में केवल दुकानदार को सुरक्षा कवच देना व कर्मचारी को छोड़ देना अधूरी सौगात है। दोनों को सुरक्षा कवच मिलना चाहिए। कर्मचारी की जान भी दुकानदार इतनी ही मूल्यवान है।

एक आदमी से दुकान चलाना संभव नहीं 
राशन दुकान एक आदमी से चलाना संभव नहीं होता। मालिक व कर्मचारी दोनों मिलकर काम करते हैं। कोरोना संक्रमण से मौत होने पर सरकार ने केवल दुकानदार को 50 लाख का सुरक्षा बीमा दिया है। कर्मचारी का भी सुरक्षा बीमा होना चाहिए। जिलाधीश को निवेदन देकर कर्मचारी को भी कोरोना संक्रमण से मौत होने पर 50 लाख का सुरक्षा बीमा देने की गुजारिश राज्य सरकार से की जाएगी। 
-गुड्डू अग्रवाल, अध्यक्ष, राशन दुकानदार संघ नागपुर