दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर के 51 उद्यान मनपा के जिम्मे, मेंटनेंस को लेकर एनआईटी परेशान 

August 25th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर सुधार प्रन्यास (एनआईटी) ने दो महीने पहले शहर के 51 उद्यान मनपा को हस्तांतरित किए, लेकिन मेंटेनंेस के लिए लोग अभी भी एनआईटी को फोन कर रहे हैं।एनआईटी ने स्पष्ट किया कि, इन 51 उद्यानों के रख-रखाव की जिम्मेदारी मनपा की है आैर लोग मनपा से संपर्क करें। 

उद्यानों की हालत दयनीय
एनआईटी  ने जून 2020 को शहर के 51 उद्यान मनपा को हस्तांतरित किए। इनके रख-रखाव पर सालाना साढ़े चार करोड़ का खर्च अनुमानित है। इन उद्यानों के मुख्य द्वार पर नासुप्र लिखा होने से लोग रख-रखाव के लिए अभी भी नासुप्र को सूचित कर रहे हैं। बारिश के मौसम में उद्यानों में घास-फूस कीचड़ होने से यहां गिट्टी का चूरा डालकर जगह समतल करने की जरूरत होती है, लेकिन कोरोना के कारण उद्यानों के रख-रखाव पर असर हो रहा है। समाजसेवी संजय थुल ने बताया कि, नारी रोड मैत्री कालोनी और बैंक कालोनी में उद्यानों की स्थिति अत्यंत दयनीय हो गई है।  घास बढ़ने और कीचड़ के कारण लोगों का उद्यान में घूमना-फिरना मुश्किल हो गया है। एनएमसी और एनआईटी, कोई ध्यान नहीं दे रहा है। 

रख-रखाव  करना अब हमारा काम नहीं 
51 उद्यान मनपा को हस्तांतरित कर दिए हैं। अब उद्यानों की देखभाल, रख-रखाव व मरम्मत की जिम्मेदारी मनपा की है। लोग अभी भी एनआईटी को फोन लगाकर रख-रखाव की गुहार करते हैं।  -वी. झाड़े, कार्यकारी अभियंता, नासुप्र 

इंस्पेक्टर नजर रखते हैं 
हमारे इंस्पेक्टर सभी उद्यानों पर नियमित नजर रखते हैं। समस्या होने पर उसे दूर किया जाता है। मेंटेनेंस की कोई समस्या ध्यान में नहीं आई। बजट की कोई समस्या नहीं है।  -अमोल चौरपगार, उद्यान अधीक्षक, मनपा