दैनिक भास्कर हिंदी: 51 झांकियों के साथ निकलेगी शोभायात्रा, दैनिक भास्कर प्रस्तुत कर रहा है देवी आराधना के साथ रास गरबा

March 24th, 2018

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  श्रीरामनवमी पर 25 मार्च को 51 झांकियों के साथ रामनगर स्थित श्रीराम मंदिर से शोभायात्रा निकाली जाएगी। भगवान राम सूर्यरथ पर सवार होंगे। शोभायात्रा के पूरे मार्ग में संस्कार भारती की ओर से रंगोली निकाली जाएगी। 

देवी आराधना के साथ गरबा रास की झांकी है खास
श्रीराम जन्मोत्सव शोभायात्रा में दैनिक भास्कर परिवार की ओर से इस बार ‘देवी आराधना के साथ गरबा रास’ की मनोहारी और स्वचलित झांकी प्रस्तुत की जाएगी। मां दुर्गा की 8 फीट ऊंची नयनाभिराम प्रतिमा आकर्षण का केंद्र रहेगी। झांकी के समक्ष युवा रास गरबा खेलते हुए समां बांधेंगे। दैनिक भास्कर की ओर से प्रतिवर्ष शारदीय नवरात्र मंे विदर्भ का सबसे बड़ा गरबा का आयोजन किया जाता है। रामायण के किष्किंधाकांड में प्रसंग है कि लंका पर विजय के बाद अयोध्या लौटते समय भगवान राम ने नौ दिन तक देवी की आराधना की थी। बाद में राम का जन्मोत्सव मनाया गया था। इस प्रकार नवरात्र और राम जन्मोत्सव एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। इसी प्रसंग पर आधारित होगी दैनिक भास्कर की झांकी ‘देवी आराधना के साथ गरबा रास’। झांकी मेंं नवरात्र उत्सव में दुर्गाजी की प्रतिमा के समक्ष भक्तगण ढोल-ताशे, झांझ-मंजीरा और शहनाई बजाते हुए मां की आराधना मेंं डूबे नजर आएंगे। खप्पर लिए नृत्य करती महिला गोल घूमेगी। झांकी के सामने करीब 20 युवा रास गरबा खेलते हुए चलेंगे। मूर्ति का निर्माण पेंटर ज्ञानेश्वर खापरे और धीरज आर्ट है। विद्युत सजावट शरद देवीकर का रहेगा।

बैद्यनाथ की "प्रभु श्रीरामचंद्र की शिव-आराधना' झांकी
श्री पोद्दारेश्वर राम मंदिर की ओर से आयोजित श्रीराम जन्मोत्सव शोभायात्रा में श्री बैद्यनाथ आयुर्वेद भवन द्वारा "प्रभु श्रीरामचंद्र की शिव-आराधना' की भव्य एवं आकर्षक झांकी प्रस्तुत की जा रही है। शिवलिंग पर पुष्प अर्पित करते हुए हाथ की चलित झांकी प्रस्तुत की जाएगी। विश्व में आयुर्वेदिक औषधियों के सबसे बड़े निर्माता श्री बैद्यनाथ आयुर्वेद भवन की स्थापना 1917 में बैद्यनाथ धाम देवधर (बिहार) में बैद्यराज पं. रामनारायण शर्मा के द्वारा की गई थी। श्री बैद्यनाथ आयुर्वेद भवन आयुर्वेदिक औषधियों के निर्माण में तो अग्रणी हैं ही, साथ ही सामाजिक गतिविधियों, खेलकूद, सांस्कृतिक, धार्मिक सभी क्षेत्रों में भी सक्रिय है। शोभायात्रा के आरंभ से ही बैद्यनाथ प्रतिष्ठान ने प्रतिवर्ष अनुपम झांकियां प्रस्तुत की है।