comScore

नागपुर : आमसभा को लेकर फिर आयुक्त और महापौर आमने-सामने

नागपुर : आमसभा को लेकर फिर आयुक्त और महापौर आमने-सामने

डिजिटल  डेस्क, नागपुर। 20 जून को सुरेश भट सभागृह में मनपा की आमसभा प्रस्तावित है। सचिवालय से सभा का एजेंडा भी जारी किया गया। कोरोना संक्रमण के चलते शासन के दिशा-निर्देशों का पालन करने की दृष्टि से सभागृह का सैनिटाइजेशन, सदस्यों की बैठक व्यवस्था, सभी को मास्क उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए। इस बीच आयुक्त तुकाराम मुंढे ने आमसभा का आयोजन अवैध ठहराते हुए 15 जून को सभा रद्द करने के लिए महापौर को पत्र लिख दिया। इसके बाद से मनपा में खलबली मची है। महापौर संदीप जोशी ने पत्र परिषद में आयुक्त के खिलाफ ताल ठोंकी और कहा- आमसभा होकर ही रहेगी। पत्र परिषद में उपमहापौर मनीषा कोठे, सत्तापक्ष नेता संदीप जाधव, स्थायी समिति सभापति विजय झलके उपस्थित थे।

पहले हामी भरी थी, अब आमसभा को अवैध
महापौर ने कहा- मनपा आयुक्त की सहमति से ही आमसभा बुलाई गई। महापौर के पत्र पर आयुक्त ने शासन निर्देशों का पालन कर सभा बुलाने पर हामी भरी थी। अतिरिक्त आयुक्त ने आयुक्त के साथ चर्चा के बाद मनपा सचिवालय को पत्र देकर आमसभा का आयोजन करने को कहा। सचिवालय ने आमसभा का एजेंडा जारी किया। एजेंडा में 20 जून को सुरेश भट सभागृह में सुबह 11 बजे आमसभा का समय निश्चित किया गया है। संक्रमण से बचने के सारे उपाय किए गए। अब आयुक्त ने प्रतिबंधित क्षेत्र में रहने वाले नगरसेवकों की आमसभा में भागीदारी से संक्रमण का खतरा बता दिया है।  इस तर्क के साथ आमसभा रद्द करने का अचानक पत्र भेज दिया है। भीड़ जुटने के कारण आमसभा को अवैध करार दिया है। महापौर ने कहा कि पहले भी आयुक्त मना कर सकते थे। परंतु ऐसा उन्होंने नहीं किया।

राज्य के अन्य मनपा में रोक नहीं
महापौर ने कहा कि महाराष्ट्र के अन्य महानगरपालिकाओं में आमसभा पर रोक नहीं है। पुणे, पिंपरी-चिंचवड़, नाशिक मनपा में नियमित आमसभा तथा विषय समितियों की सभा हो रही है। 

अधिकारी और नगरसेवकों के लिए अलग-अलग मापदंड
महापौर ने कहा कि आयुक्त ने प्रतिबंधित क्षेत्र के नगरसेवकों की  आमसभा में भागीदारी से संक्रमण की आशंका जताई है। मनपा में कार्यरत हजारों अधिकारी, कर्मचारी प्रतिबंधित क्षेत्र से रोज मनपा में आना-जाना कर रहे हैं। जब प्रतिबंधित क्षेत्र के नगरसेवकों के आमसभा में आने से संक्रमण फैलने का खतरा है, तो फिर मनपा अधिकारी, कर्मचारियों के लिए भी यही मापदंड होना चाहिए। मनपा प्रशासन से प्रतिबंधित क्षेत्र में रहने वाले नगरसेवक और मनपा में कार्यरत अधिकारी, कर्मचारियों की सूची मंगवाई गई है। यह सूची मिलने पर खुलासा किया जाएगा।
 
नेताओं की बैठक में लिया गया आमसभा बुलाने का निर्णय
महापौर ने बताया कि आयुक्त का आमसभा रद्द करने के संबंध में पत्र मिलने पर सभी नेताओं की बैठक बुलाई गई। बैठक में आमसभा बुलाने का निर्णय लिया गया। इस संबंध में आयुक्त को पत्र दिया गया है। आयुक्त से नकारात्मक जवाब मिलने पर पुन: गटनेताओं की बैठक बुलाकर आगे क्या करना है, इस विषय पर निर्णय लिया जाएगा। 

कमेंट करें
7maUI