असमंजस: आगे बढ़ सकती है नागपुर अधिवेशन की तारीख

November 11th, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। आगामी 7 दिसंबर से शुरू होने जा रहे विधानमंडल के नागपुर अधिवेशन को लेकर सस्पेंस बढ़ता जा है। पीडब्ल्यूडी को विधानमंडल की कामकाज सलाहकार समिति से किसी तरह के नए निर्देश नहीं मिलने से असमंजस बढ़ गया है। नियमानुसार, अधिवेशन के 45 दिन पहले समिति की बैठक होना अनिवार्य है, लेकिन अब अधिवेशन को सिर्फ 26 दिन बचे हैं, फिर भी बैठक नहीं हो पाई है। बड़ी वजह, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का बैठक के लिए समय नहीं मिलना है। मुख्यमंत्री का बैठक में होना अनिवार्य है। उनका निर्णय अंतिम होता है। 

कम समय में तैयारी मुश्किल : मुख्यमंत्री के बीमार होने से बैठक पर संकट मंडरा रहा है। ऐसे में चर्चा है कि कहीं नागपुर अधिवेशन की तारीख आगे न बढ़ जाए। पीडब्ल्यूडी से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि इतने कम समय में सभी तरह की तैयारी होना मुश्किल है। परिस्थितियों को देखते हुए संभव है कि सरकार अधिवेशन की तारीख आगे बढ़ा दे। यह भी संभव है कि समय पर मुंबई में अधिवेशन लेने की घोषणा कर दे। वहां सभी तरह की तैयारी पहले से है। अगर नागपुर में अधिवेशन लेना है, तो तारीख आगे बढ़ाने पर विचार किया जा सकता है। फिलहाल मुंबई विधानभवन सचिवालय ने प्रस्तावित नागपुर अधिवेशन की तिथि अनुसार तैयारियों को अंजाम देना शुरू कर दिया है। 

निर्देश मिलते ही काम होगा शुरू  सचिवालय ने स्थानीय पत्रकारों से प्रवेश पास के लिए आवेदन मंगवाए हैं। हालांकि नागपुर में अभी तक ऐसी कोई हलचलें नहीं हैं और न सचिवालय के नागपुर पहुंचने की अभी तक आधिकारिक जानकारी दी गई है। अधिवेशन के 10 दिन पहले नागपुर में सचिवालय के अधिकारी पहुंचते हैं, जिसके लिए विधानभवन के अर्श से फर्श तक डेंटिंग-पेंटिंग की जाती है। अभी ऐसी कोई पहल नहीं की जा रही है, जिससे ऊहापोह की स्थिति बन गई है। अधिकारियों का कहना है टेंडर आदि सभी तैयारी करके रखी है। जैसे ही आदेश मिलते हैं, तैयारियों को अमली जामा पहनाना शुरू कर देंगे।