कार्रवाई: सरकारी अनाज की कालाबाजारी करने के आरोप में दो राशन दुकानें सस्पेेंड

December 22nd, 2021

डिजिटल डेस्क, नागपुर। खाद्यान्न आपूर्ति विभाग ने सरकारी अनाज की कालाबाजारी करने के आरोप में शहर की दो राशन दुकानों को सस्पेंड (निलंबित) कर दिया। खाद्यान्न विभाग की अोर से यह कदम पुलिस कार्रवाई के बाद उठाया गया है। पुलिस उपायुक्त गजानन राजमाने के विशेष दस्ते ने सरकारी अनाज की कालाबाजारी करने के आरोप में  जूनी मंगलवारी के सप्तरंग ग्राहक सहकारी संस्था (राशन दुकान) पर कार्रवाई की थी। सरकारी अनाज की कालाबाजारी करने के आरोप में राशन दुकान के संचालक भोजराज पारशिवनीकर (58) व दिनेश तितरे को गिरफ्तार किया।

हिरासत में हैं आरोपी : पुलिस के अनुसार दिनेश तितरे की किराना दुकान है आैर वह सरकारी अनाज की खरीदी कर रहा था। पुलिस ने 182 बोरे अनाज जब्त किया। पुलिस ने सप्तरंग ग्राहक सहकारी संस्था व उसी से लगी भोजराज पारशिवनी नामक राशन दुकान को सील लगा दिया। फिलहाल दोनों आरोपी लकड़गंज पुलिस की हिरासत में है। पुलिस रिपोर्ट मिलने के बाद खाद्यान्न आपूर्ति विभाग ने सप्तरंग व भोजराज पारशिवनीकर ऐसी दोनों राशन दुकानों को सस्पेंड कर दिया। 

पुलिस पर लगाया साजिश का आरोप : पुलिस कार्रवाई से नाराज भोजराज के बेटे बंटी पारशिवनीकर ने कुछ राशन दुकानदारों को साथ लेकर खाद्यान्न आपूर्ति अधिकारी भास्कर तायडे से भेंट की आैर पुलिस पर साजिश के तहत फंसाने का आरोप लगाया। खाद्यान्न आपूर्ति अधिकारी को निवेदन देकर पुलिस कार्रवाई पर आपत्ति उठाई है। एक राशन दुकान पर छापा पड़ा आैर परिवार की दो राशन दुकानों को पुलिस द्वारा बंद करने की कार्रवाई को गलत बताया।  राशन दुकानदारों को टारगेट करने का आरोप पुलिस पर लगाया। खाद्यान्न अधिकारी को साथ लिए बगैर पुलिस द्वारा कार्रवाई करने पर सवाल उठाए गए। 

मार्च तक मिलेगा मुफ्त अनाज : प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत मिलनेवाले मुफ्त अनाज की मियाद मार्च 2022 तक बढ़ाई गई है। यह योजना जब से शुरू हुई, तब से सरकारी अनाज की कालाबाजारी खूब बढ़ गई है। आम लोगों के अलावा राशन दुकानदार भी अनाज की कालाबाजारी के आरोप में पकड़े गए हैं। एक व्यक्ति को 5 किलो अनाज मुफ्त मिलता है।