comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

कोविड प्रभाव : जुलाई में जीएसटी संग्रह 14 प्रतिशत घट कर 87422 करोड़ रुपये

August 01st, 2020 21:00 IST
 कोविड प्रभाव : जुलाई में जीएसटी संग्रह 14 प्रतिशत घट कर 87422 करोड़ रुपये

हाईलाइट

  • कोविड प्रभाव : जुलाई में जीएसटी संग्रह 14 प्रतिशत घट कर 87422 करोड़ रुपये

नई दिल्ली, 1 अगस्त (आईएएनएस)। कोविड के कारण पिछले कुछ महीनों से बाधित आर्थिक गतिविधियों का असर सरकार के कर संग्रह पर पड़ा है और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत सरकार का कर संग्रह जुलाई में एक लाख करोड़ रुपये के मनोवैज्ञानिक स्तर से काफी नीचे गिरकर 87,422 करोड़ रुपये रहा।

जुलाई का संग्रह पिछले वर्ष के संग्रह का 84 प्रतिशत है, और यह अप्रैल और मई के महीनों की तुलना में हालांकि सुधार है, क्योंकि कोविड-19 के कारण लागू लॉकडाउन और आर्थिक गतिविधियों के गंभीर रूप से बाधित होने के कारण उन दो महीनों में जीएसटी संग्रह अबतक के न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया था।

अप्रैल में जीएसटी संग्रह 32,294 करोड़ रुपये था, जो पिछले साल के इसी महीने के जीसटी संग्रह का मात्र 28 प्रतिशत था और मई का जीएसटी संग्रह 62,009 करोड़ रुपये था, जो पिछले वर्ष के इसी महीने के राजस्व संग्रह का 62 प्रतिशत था।

सिर्फ जून में जीएसटी संग्रह 90,917 करोड़ रुपये पहुंच सका।

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा, पिछले महीने जून का राजस्व मौजूदा महीने से अधिक था। हालांकि यह ध्यान देने योग्य है कि बड़ी संख्या में करदाताओं ने फरवरी, मार्च और अप्रैल 2020 के करों का भी भुगतान जून में किया। यह भी ध्यान दिया जा सकता है कि पांच करोड़ रुपये से कम के कारोबार वाले करदाता सितंबर 2020 तक रिटर्न फाइल करने में लगातार छूट की सुविधा का लाभ उठा रहे हैं।

आधिकारिक बयान में कहा गया है कि जुलाई में कुल 87,422 करोड़ रुपये के जीएसटी संग्रह में सीजीएसटी 16,147 करोड़ रुपये, एसजीएसटी 21,418 करोड़ रुपये था।

आईजीएसटी संग्रह 42,592 करोड़ रुपये (इसमें वस्तुओं के आयात पर संग्रहित 20,324 करोड़ रुपये भी शामिल है) था और सेस संग्रह 7,265 करोड़ रुपये (वस्तुओं के आयात पर संग्रहित 807 करोड़ रुपये शामिल) था।

सरकार ने नियमित निपटान के रूप में आईजीएसटी से 18,838 करोड़ रुपये के एसजीएसटी और 23,320 करोड़ रुपये के सीजीएसटी का निपटारा किया है।

जुलाई महीने में नियमित निपटारे के बाद केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को मिले कुल राजस्व सीजीएसटी के लिए 39,467 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 40,256 करोड़ रुपये हैं।

कमेंट करें
Og8Hb
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।