दैनिक भास्कर हिंदी: शेयर बाजार में 10 साल की सबसे बड़ी तेजी, निवेशक मालामाल, 6.83 लाख करोड़ रुपए कमाए

September 21st, 2019

हाईलाइट

  • शुक्रवार को शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी देखने को मिली
  • सेंसेक्स 1921 पॉइंट और निफ्टी 570 पॉइंट की तेजी के साथ बंद हुआ
  • इस तेजी से निवेशक 6.83 लाख करोड़ रुपए ज्यादा अमीर हो गए हैं

डिजिटल डेस्क, मुंबई। वित्त मंत्री के शेयरों की बिक्री से कैपिटल गेन पर सरचार्ज से राहत के ऐलान के बाद शुक्रवार को शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी देखने को मिली। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के 30 शेयरों पर आधारित सूचकांक सेंसेक्स 1921 पॉइंट और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के 50 शेयर पर आधारित सूचकांक निफ्टी 570 पॉइंट की तेजी के साथ बंद हुआ। ये 10 साल की सबसे बड़ी इंट्रा-डे तेजी है। इस तेजी से निवेशक 6.83 लाख करोड़ रुपए ज्यादा अमीर हो गए हैं। 

कैसा रहा दिनभर का कारोबार?
सेंसेक्स सुबह 121.45 अंकों की बढ़त के साथ 36,214.92 पर खुला और 1,921.15 (5.32%) की बढ़त के साथ 38,014.62 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेसेंक्स ने 38,378.02 के ऊपरी और 36,085.74 के नीचले स्तर को छुआ। जबकि निफ्टी 42 अंक की बढ़त के साथ 10,746.80 पर खुला और 569.40 (5.32%) की बढ़त के साथ 11,274.20 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 11,381.90 के ऊपरी और 10,691.00 के निचले स्तर को छुआ।

मिडकैप और स्मॉलकैप में भी बढ़त
BSE का मिडकैप इंडेक्स 834.73 (6.28%) की बढ़त के साथ 14,819.44 और स्मॉलकैप इंडेक्स 500.98 (3.94%) की बढ़त के साथ 13,204.25 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी के मिडकैप 100 इंडेक्स में 5.86% की बढ़त देखी गई। यह 16,333.40 के स्तर पर बंद हुआ। निफ्टी का स्मॉलकैप 100 इंडैक्स 3.92% की बढ़त के साथ 5,643.55 के स्तर पर बंद हुआ।

NSE पर 10 सेक्टोरल इंडेक्स हरे निशान में
NSE पर 11 सेक्टोरल इंडेक्स में से 10 हरे निशान में बंद हुए। केवल निफ्टी आईटी ही ऐसा इंडेक्स रहा जो लाल निशान में बंद हुआ। निफ्टी आईटी इंडेक्स में 0.20% की गिरावट देखी गई। जबकि निफ्टी बैंक 8.31%, निफ्टी ऑटो 9.90%, निफ्टी फाइनेंशियल सर्विस 7.15%, निफ्टी एफएमसीजी 4.41%, निफ्टी मीडिया 3.37%, निफ्टी मेटल 5.68%, निफ्टी फार्मा 2.36%, निफ्टी पीएसयू बैंक 6.94%, निफ्टी प्राइवेट बैंक 8.27% और निफ्टी रिएल्टी में 3.88% की बढ़त देखी गई।

सेंसेक्स टॉप गेनर्स

Security Name

LTP

% Chg

हीरोमोटोकॉर्प

2866

13.19%

मारुति

6585.25

10.89%

इंडसइंड बैंक

1419.60

10.74%

बजाज फाइनेंस

3705.60

10.19%

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया

301.70

10.09%


 

निफ्टी टॉप गेनर्स

Security Name

LTP

% Chg

आइशर मोर्टस

17860

13.38%

हीरोमोटोकॉर्प

2844.65

12.34%

इंडसइंड बैंक

1422.50

10.94%

बजाज फाइनेंस

3718.00

10.59%

मारुति

6601.00

10.54%


10 सालों की सबसे बड़ी इंट्राडे बढ़त
कॉरपोरेट टैक्स घटाने के साथ ही वित्त मंत्री ने ये भी ऐलान किया कि शेयरों की बिक्री से कैपिटल गेन पर सरचार्ज बढ़ोतरी लागू नहीं होगी। जिन कंपनियों ने 5 जुलाई से पहले शेयर बायबैक की घोषणा की थी। उन पर भी टैक्स नहीं लगेगा। इसका असर ये हुआ कि कारोबार के दौरान 2284 अंक चढ़ा। हालांकि, क्लोजिंग 1921 प्वाइंट की बढ़त के साथ हुई। ये दस सालों की सबसे बड़ी इंट्राडे बढ़त है। 18 मई 2009 को सेंसेक्स में 2110.79 पॉइंट की जबकि निफ्टी में 712.65 पॉइंट की बढ़त देखी गई थी। 
 
निवेशक हुए 6.83 लाख करोड़ रुपए ज्यादा अमीर
इस बढ़त के साथ निवेशक 6.83 लाख करोड़ रुपए ज्यादा अमीर हो गए। गुरुवार को बीएसई पर लिस्टेड शेयरों का मार्केट कैपिटलाइजेशन 138 लाख करोड़ (1,38,54,439.41) रुपए था जो शुक्रवार को बढ़कर 145 लाख करोड़ (1,45,37,378.01) रुपए पर पहुंच गया।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?
जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के रिसर्च हेड विनोद नायर ने कहा कि सरकार के ये कदम आने वाली तिमाहियों में इकोनॉमिक आउटलुक को रिवाइव करने में मदद करेंगे। उन्होंने कहा, 'विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) के पास अब भारत वापस आने का एक अच्छा कारण है और यह प्रगतिशील कदम खपत को प्रोत्साहित करेगा और कैपेक्स साइकल को इगनाइट करेगा। इसके अलावा, कंपनियों को ग्राहकों को लाभ देना आसान हो जाएगा जिससे अर्निंग्स में सुधार होगा।'

खबरें और भी हैं...