comScore

Fuel Price: आमजन को एक बार फिर मिली पेट्रोल-डीजल की कीमतों में राहत, जानें आज क्या है दाम


हाईलाइट

  • तेल कंपनियों ने नहीं बढ़ाए डीजल के दाम
  • पेट्रोल के दाम में भी नहीं हुआ कोई बदलाव
  • आगामी दिनों में महंगा हो सकता है ईंधन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय तेल विपणन कंपनियों (IOC, HPCL & BPCL) ने पेट्रोल-डीजल (Petrol- Diesel) की कीमतों में आज भी आमजनों को राहत दी है। महीने के दूसरे दिन यानी आज (रविवार, 02 अगस्त) पेट्रोल-डीजल की कीमत में कोई बदलाव नहीं किया गया। देखा जाए तो ईंधन के दाम में स्थिरता का यह सातवां दिन है। इसका कारण अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल (Crude oil) की कीमतोंं में दो सप्ताह से कोई खास उतार- चढ़ाव ना आना है। डीजल की कीमत में 25 और 26 जुलाई को आखिरी बार लगातार दो दिनों के लिए तेजी देखी गई थी। वहीं बात करें पेट्रोल के दाम की तो एक महीने से इसकी कीमत में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है

पिछले सप्ताह के आंकड़ों को देखा जाए तो सरकारी तेल कंपनियों ने लगातार 4 दिनों तक पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई फेरबदल नहीं किया था। लेकिन, उसके बाद बीते शनिवार और रविवार को डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की थी। इस सप्ताह सोमवार से लगातार शनिवार तक कीमतों में कोई फेरबदल नहीं हुआ। फिलहाल आइए जानते हैं आज देश के प्रमुख महानगरों में पेट्रोल- डीजल की कीमत के बारे में...

ऋण पुनर्गठन के लिए केंद्र आरबीआई से बात कर रहा : सीतारमण

पेट्रोल की कीमत
इंडियन ऑयल (Indian Oil) की वेबसाइट के अनुसार आज देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 80.43 रुपए प्रति लीटर है। वहीं आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल 87.19 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। बात करें कोलकाता की तो यहां एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको 82.05 रुपए चुकाना होंगे। जबकि चैन्नई में पेट्रोल 83.63 रुपए प्रति लीटर में उपलब्ध होगा।

डीजल की कीमत
दिल्ली में राज्य सरकार से मिली राहत के बाद डीजल की कीमत 81.94 रुपए प्रति लीटर से घटकर 73.56 रुपए प्रति लीटर हो गई है। वहीं मुंबई में डीजल 80.11 रुपए प्रति लीटर बेचा जा रहा है। कोलकाता में आपको एक लीटर डीजल 77.06 रुपए में उपलब्ध होगा। जबकि चैन्नई में एक लीटर डीजल के लिए आपको 78.86 रुपए चुकाना होंगे।

एसबीआई का वित्त वर्ष 2021 में शुद्ध लाभ 81 प्रतिशत बढ़ा

कच्चे तेल में कारोबार
एक रिपोर्ट के अनुसार, जून के महीने में भारत का कच्चे तेल आयात पिछले पांच सालों के न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया। कच्चे तेल आयात में गिरावट के कारण साल में पहली बार साल-दर-साल आधारित रिफाइन्ड प्रोडक्ट के निर्यात में भारी गिरावट दर्ज की गई है।
पेट्रोलियम मिनिस्ट्री के पेट्रोलियम प्लानिंग ऐंड ऐनालिसिस सेल (PPAC) की रिपोर्ट की मानें तो पिछले महीने कच्चे तेल का आयात पिछले साल के मुकाबले 19 फीसदी कम रहा। पिछले तीन महीने से इसमें गिरावट दर्ज की जा रही है।

कमेंट करें
g4hq0