comScore

Fuel Price: इस हफ्ते देशभर में पेट्रोल- डीजल हो सकता है महंगा, ये है कारण

Fuel Price: इस हफ्ते देशभर में पेट्रोल- डीजल हो सकता है महंगा, ये है कारण

हाईलाइट

  • ओपेक (OPEC) द्वारा इस हफ्ते होने वाली है बैठक
  • कच्चे तेल का उत्पादन रोकने पर हो सकता है फैसला
  • भारत में पेट्रोल- डीजल की कीमत पर होगा सीधा असर

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोनावायरस (Coronavirus) लॉकडाउन (Lockdown) के चलते पिछले ढाई महीने से पेट्रोल- डीजल (Petrol- Diesel) की कीमत स्थिर बनी हुई हैं। हालांकि, इस बीच कुछ राज्यों द्वारा राजस्व के लिए वैट में बढ़ोतरी की गई। लेकिन जल्द ही देशभर में तेल की कीमतों में बड़ा उछाल देखने को मिल सकता है। दरअसल, कच्चे तेल (Crude oil) की बढ़ती कीमतें और आने वाले दिनों में ओपेक (OPEC) की ओर से होने वाले फैसला का असर इस पर पड़ेगा। बता दें कि कच्चे तेल का उत्पादन और एक्सपोर्ट करने वाले संगठन ओपेक की बैठक इस हफ्ते होने वाली है।

फिलहाल बात करें आज (बुधवार, 03 जून) की तो देशभर में भारतीय तेल (Indian Oil) विपणन कंपनियों द्वारा पेट्रोल- डीजल की कीमत में किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया है। यानी कि लगातार 78 दिनों से सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों ने पेट्रोल- डीजल की कीमत स्थिर रखी है। संभवत: यह पहली बार है, जब तेल विपणन कंपनियों ने इतने लंबे समय तक पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया।

विलंब शुल्क पर कारोबारियों को राहत दे सकती है जीएसटी परिषद

आज की कीमत इस प्रकार हैं:-

महानगर

पेट्रोल      

डीजल

दिल्ली 

71.26 रुपए प्रति लीटर

69.39 रुपए प्रति लीटर

मुंबई

78.31 रुपए प्रति लीटर

68.21 रुपए प्रति लीटर

कोलकाता 

73.30 रुपए प्रति लीटर

65.62 रुपए प्रति लीटर

चैन्नई

75.54 रुपए प्रति लीटर

68.22 रुपए प्रति लीटर

इसलिए हो सकती है कीमत में बढ़ोतरी
आगामी दिनों में पेट्रोल- डीजल के दाम बढ़ने की उम्मीद का कारण ओपेक की बैठक है। जानकारों का मानना है कि इस बैठक में ओपेक अगले कुछ महीनों के लिए उत्पादन में कटौती पर फैसला कर सकता है। यदि ऐसा होता है तो कच्चे तेल की कीमतों में जबरदस्त उछाल आ सकता है। इससे पहले ही ओपेक की ओर से जारी कटौती के चलते पिछले 6 हफ्तों में कच्चे तेल का दाम दोगुना हो चुका है। 

भारतीय बाजार की बात करें भारत अपनी जरूरत के 83 फीसदी से ज्यादा कच्चा तेल आयात करता है। ऐसे में अब यदि उत्पादन में कटौती का फैसला होता है तो भारत में पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर इसका सीधा असर होगा।

प्याज का उत्पादन 17 फीसदी बढ़ा : दूसरा अग्रिम उत्पादन अनुमान

ऐसे तय होती है कीमत
विदेशी मुद्रा दरों के साथ अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड की कीमतें क्या हैं, इस आधार पर रोज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। इन्हीं मानकों के आधार पर पर ऑयल मार्केटिंग कंपनियां पेट्रोल रेट और डीजल रेट रोज तय करती हैं। इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम हर रोज सुबह 6 बजे पेट्रोल और डीजल की दरों में संशोधन कर जारी करती हैं।

कमेंट करें
6HWIE