दैनिक भास्कर हिंदी: ऑटो सेक्टर में मंदी से महिंद्रा लॉजिस्टिक्स के लाभ में 24 प्रतिशत की कमी

August 2nd, 2019

हाईलाइट

  • : मोटर वाहन क्षेत्र में एक अभूतपूर्व मंदी ने महिंद्रा लॉजिस्टिक्स लाभ को पहली वित्तीय तिमाही में कर के बाद 19 करोड़ रुपये तक खींच लिया, जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 24 करोड़ रुपये से कम था

डिजिटल डेस्क, मुंबई। ऑटो सेक्टर में भारी मंदी का दौर चल रहा है, इनमें अधिकांश ऑटो कंपनियों को बड़ा नुकसान झेलना पड़ रहा है। पहली वित्तीय तिमाही में महिंद्रा लॉजिस्टिक्स का लाभ 24 प्रतिशत घट गया है। यह मुनाफा 22.3 फीसदी घटकर 18.6 करोड़ रुपए रहा है। वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में महिंद्रा लॉजिस्टिक्स का मुनाफा 24 करोड़ रुपये रहा था।

वित्त वर्ष 2019 की पहली तिमाही में महिंद्रा लॉजिस्टिक्स की आय 3.1 फीसदी घटकर 899 करोड़ रुपये रही है। जबकि वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में महिंद्रा लॉजिस्टिक्स की आय 928.2 करोड़ रुपये रही थी। 

सालाना आधार पर पहली तिमाही में महिंद्रा लॉजिस्टिक्स का एबिटडा 40.5 करो़ड़ रुपये से 1.2 प्रतिशत घटकर 40.5 करोड़ रुपये रहा है। सालाना आधार पर पहली तिमाही में महिंद्रा लॉजिस्टिक्स का एबिटडा मार्जिन 4.4 फीसदी से बढ़कर 4.5 फीसदी रहा है।

महिंद्रा लॉजिस्टिक्स पिरोजश सरकार के सीईओ ने कहा, "इस तिमाही में एंड-यूज सेक्टरों का मिला-जुला प्रदर्शन रहा।" "ऑटो उद्योग लंबे समय में अपनी सबसे खराब मंदी का सामना कर रहा है। इससे हमारी आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन व्यवसाय प्रभावित हुआ।" दूसरी ओर, उपभोक्ता, फार्मा और ई-कॉमर्स वर्टिकल लगातार बढ़ते रहे।

सरकार ने गुरुवार को एक बयान में कहा, "मैं देश में संगठित तीसरे पक्ष के लॉजिस्टिक्स उद्योग की दीर्घकालिक विकास संभावनाओं के बारे में आश्वस्त हूं। यह ध्यान में रखते हुए, हमने अपने डिजिटल और परिवर्तन परियोजनाओं में निवेश करना जारी रखा है।"

महिंद्रा लॉजिस्टिक्स ऑटोमोबाइल, इंजीनियरिंग, उपभोक्ता वस्तुओं और ई-कॉमर्स जैसे विभिन्न उद्योगों में 400 से अधिक कॉर्पोरेट ग्राहकों को सेवा प्रदान करता है। कंपनी एक एसेट-लाइट बिजनेस मॉडल का अनुसरण करती है, जो आपूर्ति श्रृंखला और लोगों के परिवहन संचालन के दौरान अनुकूलित और प्रौद्योगिकी-सक्षम समाधान प्रदान करती है।