सीतारमण : केंद्रीय बजट 2022-23 की सर्वोच्च प्राथमिकता है आर्थिक विकास का पुनरुद्धार

February 21st, 2022

हाईलाइट

  • तकनीक हमारे अपने लोगों द्वारा फैलाई और अपनाई गई है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को कहा कि आर्थिक विकास का पुनरुद्धार केंद्रीय बजट 2022-23 की सर्वोच्च प्राथमिकता है। मुंबई में बजट के बाद की बातचीत के हिस्से के रूप में विभिन्न उद्योग हितधारकों से बात करते हुए, सीतारमण ने कहा, वसूली (रिकवरी) एक सबसे महत्वपूर्ण चीज है जिस पर हमें अपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए। एक निरंतर वसूली और एक मजबूत वसूली एक ऐसी चीज है, जो हम सभी चाहते हैं।

वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार का पूरा लक्ष्य टिकाऊ पुनरुद्धार पर है। उन्होंने आगे कहा, इसलिए, यह बजट संभवत: उस विकास पुनरुद्धार को प्राथमिकता के रूप में रखने पर अधिक जगह, ध्यान और फोकस प्रदान करता है और इसमें स्थिरता, अनुमानित कर व्यवस्था के लिए स्पष्ट संदेश भी हैं।

सीतारमण ने कहा, वित्त वर्ष 2023 के बजट ने सार्वजनिक बुनियादी ढांचे की योजना को जारी रखने के लिए पूंजीगत व्यय को 35.4 प्रतिशत बढ़ाकर 7.5 लाख करोड़ रुपये कर दिया है, जो निजी भागीदारी बढ़ाने के अलावा अर्थव्यवस्था में नए रोजगार पैदा करेगा।

उन्होंने कहा कि बुनियादी ढांचे पर खर्च के लिए बजट प्रस्तावों से अर्थव्यवस्था पर गुणात्मक प्रभाव पड़ेगा। यह बजट ऐसे समय तैयार किया गया है, जब अर्थव्यवस्था महामारी के प्रभाव से उबर रही है।उन्होंने यह भी कहा कि अधिक गुणक प्रभाव के साथ हमें उम्मीद है कि संपत्ति बनाई जा सकती है जो हमें कई दशकों तक चल सकती है।

इसके अलावा, उन्होंने बताया कि कैसे देश ने महामारी के दौरान तकनीकी प्रगति की, विशेष रूप से ऑनलाइन भुगतान के क्षेत्र में काफी प्रगति देखी गई। उन्होंने कहा, आज तकनीक की दम पर हम लोगों के घरों तक पहुंच सकते हैं और उनके खातों में पैसा दे सकते हैं। क्योंकि यह तकनीक हमारे अपने लोगों द्वारा फैलाई और अपनाई गई है।

वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि भुगतान सेवा के अलावा, केंद्र शिक्षा क्षेत्र, खेती, अन्य के लिए प्रौद्योगिकी पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। उन्होंने कहा कि केंद्र डिजिटल लाभ को जाने नहीं देगा, जो देश को मिला है।

 

(आईएएनएस)