comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

स्कूल बंद होने से खिलौने की बिक्री सुस्त, छोटे कारोबारियों के लिए नये नियम का पालन मुश्किल

October 30th, 2020 14:31 IST
 स्कूल बंद होने से खिलौने की बिक्री सुस्त, छोटे कारोबारियों के लिए नये नियम का पालन मुश्किल

हाईलाइट

  • स्कूल बंद होने से खिलौने की बिक्री सुस्त, छोटे कारोबारियों के लिए नये नियम का पालन मुश्किल

नई दिल्ली, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। कोरोना काल में बच्चों के स्कूल बंद होने के चलते खिलौने की बिक्री सुस्त पड़ जाने से आर्थिक चुनौतियों से जूझ रहे देश के खिलौना कारोबारियों के सामने भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) प्रमाणन की अनिवार्यता का अनुपालन करने को लेकर मुश्किलें खड़ी हो गई हैं।

अगले साल एक जनवरी से बीआईएस द्वारा प्रमाणित खिलौने ही देश के बाजार में बिक सकेंगे, जिसके लिए खिलौना विनिर्माताओं को अपनी फैक्ट्रियों में बीआईएस से प्रत्यापित लैब लगाने होंगे।

खिलौना कारोबारी बताते हैं कि लैब लगाने का खर्च इतना अधिक है कि छोटे कारोबारियों के लिए इस खर्च को वहन करना मुश्किल है। ट्वॉय एसोसिएशन ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट अजय अग्रवाल ने आईएएनएस से कहा कि एक लैब लगाने में तकरीबन आठ से 10 लाख रुपये खर्च होता है और छोटे कारोबारी इतना खर्च नहीं उठा सकता।

अग्रवाल ने कहा, हमने सरकार से कहा है कि छोटे कारोबारियों को उनके खिलौने को थर्ड पार्टी लैब से टेस्ट करवाने के बाद पास होने पर बेचने की इजाजत दी जाए। उन्होंने कहा कि देश में करीब 5,000 से 6,000 खिलौना विनिर्माता हैं, लेकिन नये नियम के तहत लाइसेंस के लिए महज 125 कारोबारियों ने आवेदन किया है जिनमें से 25 लोगों को लाइसेंस मिला है।

उन्होंने कहा कि अगले साल से एक जनवरी से खिलौना (गुणवत्ता नियंत्रण) आदेश लागू होने जा रहा है, लेकिन लाइसेंस के लिए आवेदन करने की गति इतनी सुस्त है कि आगे खिलौने का विनिर्माण, आयात व आपूर्ति में मुश्किलें आएंगी, इसलिए सरकार को या तो नियमों में ढील देनी होगी या फिर समय बढ़ाना होगा।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के तहत आने वाले उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग द्वारा 25 फरवरी, 2020 को जारी खिलौना (गुणवत्ता नियंत्रण) आदेश के अनुसार, खिलौने पर भारतीय मानक चिह्न् यानी आईएस मार्क का इस्तेमाल अनिवार्य होगा। यह आदेश एक सितंबर 2020 से प्रभावी होना था, मगर बाद में 31 दिसंबर 2020 तक की छूट दी गई और अब एक जनवरी 2020 से प्रभावी होगा।

अग्रवाल ने बताया कि चीन से खिलौने का आयात अभी हो रहा है, लेकिन आयात में पिछले साल के मुकाबले करीब 20 फीसदी की कमी आई है।

दिल्ली-एनसीआर के खिलौना कारोबारी और प्लेग्रो ट्वॉयज ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर मनु गुप्ता ने बताया कि चीन से खिलौने के आयात में काफी कमी आई है। हालांकि उन्होंने कहा कि कोरोना काल में देश में खिलौने की बिक्री भी काफी सुस्त रही है, क्योंकि स्कूल बंद हैं और खिलौने की सरकारी खरीद भी कम हो रही है। गुप्ता ने कहा कि जहां तक सीधे एंड-कंज्यूमर की खरीद का सवाल है तो इंडोर प्ले आइटम्स की मांग इस समय काफी ज्यादा है, लेकिन लग्जरी व मॉर्डन ट्यॉज की मांग अच्छी नहीं है, जिनमें आउटडोर ट्यॉज, लाइट एंड म्ॅयूजिक के खिलौने, रिमोट कंट्रोल के खिलौने आते हैं जिनका बाजार सुस्त है।

उन्होंने कहा कि छोटे बच्चों के स्कूल बंद होने से स्कूलों द्वारा खिलौने की खरीद बिल्कुल नहीं हो रही है। गुप्ता ने बताया कि खिलौने के सबसे बड़े खरीददार सरकार होती है। उसके बाद स्कूल, फिर एंड-कंज्यूमर। सरकार आंगनवाड़ी व बच्चों के स्कूलों के लिए खिलौने खरीदती है।

गुप्ता ने बताया कि मॉल में जो खिलौने के कॉर्नर की दुकानें होती थीं वे तकरीबन बंद हो चुकी हैं। उन्होंने भी बताया कि सरकार के नये नियमों का पालन करना माइक्रो स्तर के खिलौना विनिर्माताओं के लिए कठिन है क्योंकि लाइसेंस लेने के लिए जितना खर्च होता है उतना कई कारोबारियों का निवेश भी नहीं है।

कारोबारियों के मुताबिक, देश में खिलौने का रिटेल कारोबार करीब 18,000-20,000 करोड़ रुपये का है, जिसमें करीब 75 फीसदी खिलौने चीन से आते हैं। लेकिन उनका कहना है कि सरकार द्वारा खिलौने के देसी कारोबार को बढ़ावा देने के मकसद से बनाए गए नियमों का आने वाले दिनों में लाभ देखने को मिलेगा, हालांकि छोटे कारोबारियों के लिए नियमों में थोड़ी ढील देने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विगत में मन की बात रेडियो कार्यक्रम के दौरान देश की युवा प्रतिभाओं से भारतीय थीम वाले गेम्स बनाने की अपील की थी। मोदी ने कहा कि हमारे देश में लोकल खिलौनों की बहुत समृद्ध परंपरा रही है।

भारत के कुछ क्षेत्र टॉय क्लस्टर्स के रूप में भी विकसित हो रहे हैं। कर्नाटक के रामनगरम में चन्नापटना, आंध्र प्रदेश के कृष्णा में कोंडापल्ली, तमिलनाडु में तंजौर, असम में धुबरी, उत्तर प्रदेश का वाराणसी कई ऐसे नाम हैं।

पीएमजे-एसकेपी

कमेंट करें
tpuXv
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।