दैनिक भास्कर हिंदी: उद्यानों में कचरे से खाद नहीं बना पा रहे, गाड़ियों में लाद कर भेज रहे डंपिंग यार्ड

May 19th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। सभी 10 जोन में चयनित उद्यानों में मनपा ने श्रेडर मशीनें लगाई थीं। इस श्रेडर मशीन के बाद यहां पर अप्रैल माह तक 16 लाख की 11 कंपोस्टिंग मशीनें आने वाली थीं, लेकिन अभी तक एक भी मशीन नहीं आई है। श्रेडर मशीन कचरे को बारीक करने का कार्य करती है लेकिन कंपोस्टिंग मशीन न होने के कारण इसका कोई औचित्य नहीं रह गया है। उद्यानों का कचरा काट कर कचरा गाड़ी में ही जमा किया जा रहा है।

कोई उपयोग नहीं

कंपोस्टिंग मशीन न आने के कारण श्रेडर मशीन का भी कोई उपयोग नहीं रह गया है। मशीन से कचरे काे बारीक कर कचरा गाड़ी में ही डाला जा रहा है। कंपोस्टिंग मशीन न आने से उद्यानों में किसी तरह का कोई विकास नहीं हो पा रहा है।

ठप हो गई योजना

मनपा ने शहर के उद्यानों काे सालों साल हरा-भरा करने के लिए श्रेडर मशीन और कंपोस्टिंग मशीन की योजना बनाई थी। श्रेडर मशीन से उद्यान से निकलने वाले कचरे को बारीक किया जाता है। बारीक किए हुए कचरे को कंपोस्टिंग मशीन में डालकर खाद बनाने की योजना थी। खाद का उपयोग उद्यान के पेड़-पौधाें के लिए किया जाएगा। इस तरह से एक ‘चक्र’ तैयार किया गया था, लेकिन कंपोस्टिंग मशीन न आने से पूरी योजना ठप पड़ गई है। 

यह था उद्देश्य

मनपा ने शहर के उद्यानों को स्वतंत्र और सालों-साल हरा-भरा रखने के लिए यह तरीका निकाला था, जिससे एक एेसे चक्र की परिकल्पना तैयार की गई थी, जिसमें उद्यान के कचरे से ही खाद बना कर उद्यान में ही उपयोग करने वाले थे। इसके लिए शहर के 11 उद्यानों में श्रेडर मशीन तो बुलवा दी लेकिन कंपोस्टिंग मशीन अभी तक नहीं आई। यह मशीन अप्रैल माह में आने वाली थी। अब पदधिकारियों का कहना है कि अगले माह तक मशीनें आएंगी। वह पूरी तरह आश्वस्त नहीं है। 

इन उद्यानों में लग चुकी है लाखों की श्रेडर मशीन

  • लक्ष्मीनगर जोन : रेणुका माता उद्यान, सुर्वेनगर उद्यान
  • धरमपेठ जोन : अंबाझरी उद्यान 
  • हनुमान नगर जोन : त्रिशताब्दी उद्यान, जूना नंदनवन
  • धंतोली जोन : महात्मा फुले उद्यान, सुयोग नगर
  • नेहरू नगर जोन : लक्ष्मीनारायण मंदिर उद्यान
  • गांधीबाग जोन : गांधीबाग उद्यान
  • सतरंजीपुरा जोन : तुलसी नगर उद्यान, शांति नगर
  • लकड़गंज जोन : भारत माता व डॉ. बाबासाहब आंबेडकर उद्यान 
  • आशीनगर जोन : न्यू ठवरे काॅलोनी उद्यान
  • मंगलवारी जोन : एड. सखाराम पंत मेश्राम उद्यान