संपत्ति विरूपण अधिनियम: संपत्ति विरूपण अधिनियम का पालन अनिवार्य!

December 7th, 2021

डिजिटल डेस्क | छतरपुर त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन के लिये जारी आदर्श आचरण संहिता में कहा गया है कि म.प्र. संपत्ति विरूपण अधिनियम 1994 की धारा 5 का पालन करना अनिवार्य होगा। प्रचार अवधि में राजनीतिक दलों चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों को शासकीय एवं अशासकीय भवन की दिवारों पर किसी भी प्रकार के नारे लिखकर विकृत किया जाता है तो वह उल्लंघन होगा तो इस संबंध में संबंधित के खिलाफ कार्यवाही होगी। जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा संपत्ति विरूपण की रोकथाम के साथ-साथ पोस्टर एवं वैनर को हटाने तथा चुनावी नारे को मिटाने के लिये लोक संपत्ति सुरक्षा दस्ता गठित करने के लिये अनुविभागीय दण्डाधिकारी को निर्देश दिये गये है।

ऐसी सभी कार्यवाही को थाना प्रभारी की देखरेख में तुरंत कराया जाएंगा। यदि किसी राजनैतिक दल का चुनाव लड़ने वाले अभ्यर्थी द्वारा किसी निजी संपत्ति को बिना उसके स्वामी को लिखित सहमति के विरूपित किया जाता है तो निजी संपत्ति के स्वामी द्वारा संबंधित थाने में प्रथम लिखित सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने एवं लोक संपत्ति सुरक्षा दस्ता को सूचना दी जायेगी। जिस पर दल निजी संपत्ति को विरूपित होने से बचाने की कार्यवाही करेंगा एवं थाने प्रभारी संबंधित प्रथम सूचना रिपोर्ट के आधार पर विधिवत जांच कर सक्षम न्यायालय में चालान प्रस्तुत करेंगे।