मृत व्यक्ति की पहचान जयंत परियोजना में एकाउंटेंट पद पर कार्यरत पीके मूर्ति व उनकी पत्नी ज्योति के रूप में हुई: जयंत से बनारस जा रहे दंपत्ति की सड़क हादसे में मौत

November 3rd, 2021

डिजिटल डेस्क सिंगरौली (वैढऩ)। प्रकाश के पर्व दीपावली के आगमन की तैयारियों के बीच बुधवार को एक दुखद घटना से एनसीएल की जयंत परियोजना क्षेत्र में शोक का लहर दौड़ गई। दरअसल, जयंत परियोजना में एकाउंटेंट के पद पर कार्यरत पीके मूर्ति और उनकी पत्नी ज्योति की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हो गई। ज्योति डीपीएस स्कूल निगाही में शिक्षिका के तौर पर कार्यरत थीं। बताया जा रहा है कि यह घटना बुधवार दोपहर तब हुई, जब ये दम्पति बनारस जा रहे थे। ये दोनों लोग किराये की कार क्रमांक यूपी 64 एटी 8252 से बनारस जा रहे थे और रास्ते में जब सोनभद्र जिले के ग्राम कम्हरिया के पास पहुंचे तो वहां सामने से आ रहे एक तेज रफ्तार ट्रक ने कार को जोरदार टक्कर मार दी। बताया जा रहा है कि ट्रक रांग साइड से चल रहा था और काफी ज्यादा तेज रफ्तार में था। ऐसे में ट्रक की टक्कर से कार के आगे के हिस्से के परखच्चे उड़ गए और कार में सवार दम्पति की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। जयंत में स्व. श्री मूर्ति के साथ ड्यूटी करने वाले साथी कर्मियों का कहना है कि श्री मूर्ति अपनी पत्नी के साथ बनारस अपनी इकलौजी बेटी को लेने जा रहे थे, बताया जा रहा है कि उनकी बेटी मुम्बई में एयरनोटिक्स कंपनी में इंजीनियर है और वह दीपावली की छुट्टी में अपने माता-पिता के पास आ रही थी, इसलिए उसे ही रिसीव करने के लिए माता-पिता बनारस जा रहे थे, जब उनका एक्सिडेंट हो गया।
कार के चालक की हालत बेहद गंभीर
कार के चालक का नाम वैढऩ थाना अंतर्गत ग्राम सौंखर निवासी रवीन्द्र बताया जा रहा है। जिसे हादसे में काफी गंभीर चोटें आयी हैं। उसे नजदीकी शासकीय चिकित्सालय में भर्ती कराकर इलाज शुरू कर दिया गया है और हालत काफी नाजुक बतायी जा रही है। वहीं, इस दर्दनाक हादसे को अंजाम देने वाले ट्रक को लेकर बताया जा रहा है कि उसका चालक हादसे को अंजाम देने के बाद मौके से भाग निकला था, लेकिन बाद में उसे पुलिस द्वारा पकड़े जाने की सूचना सामने आ रही है, लेकिन इसकी आधिकारिक पुष्टि अभी तक नहीं हो सकी है।